Porn Hindi Kahani जाल
11-03-2018, 02:02 AM,
#41
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--41

गतान्क से आगे.

"वेलकम,मिस्टर.प्रणव.",प्रणव जब उस शानदार बंगल पे पहुँचा जोकि उसके घर से ज़्यादा दूर नही था तो 1 नौकर उसे बुंगले के सजे हुए हॉल मे ले गया जहा उसने पहली बार महादेव शाह को देखा.शाह 50-55 बरस का शख्स था जिसके सारे बाल सफेद हो चुके थे.देखने मे वो भले ही बूढ़ा लगता हो लेकिन 6 फ्ट का वो मर्द बिल्कुल चुस्त जिस्म का मालिक था.

"हेलो,मिस्टर.शाह."

"आइए..",वो उसे हॉल के कोने मे बने बार पे ले गया,"..क्या लेंगे?"

"स्कॉच."

"ओके.",उसने उम्दा स्कॉच का 1 पेग बनाके अपने मेहमान को दिया & खुद के लिए भी 1 पेग बनाया.

"तो मिस्टर.शाह आप किस सिलसिले मे मुझसे मिलना चाहते थे?"

"कम ऑन,प्रणव जी.",शाह ने शराब का 1 घूँट भरा & मुस्कुराया,"..अब आप जैसे दिमाग़दार शख्स से मुझे ऐसे सवाल की उम्मीद नही थी.",प्रणव हंस दिया.

"मिस्टर.शाह,जब डॅड ने आपका ऑफर ठुकरा दिया था तो मैं क्या कर सकता हू!"

"प्रणव जी,मैं जब 30 बरस का भी नही हुआ था तो ये मुल्क छ्चोड़ त्रिनिडाड चला गया था & 30 बार्स का होते-2 अपने गन्ने के फार्म्स & रूम डिसटिल्लरी का मालिक था.उसके बाद मैने कयि मुल्को मे कयि धंधे कर ये दौलत इकट्ठा की.अब मैं कोई कारोबार नही करना चाहता & उम्र के इस आख़िरी दौर मे अपने मुल्क वापस आ यहा के बिज़्नेसस मे अपना पैसा लगाना चाहता हू.."

"..हर व्यापारी को अपने बिज़्नेस को,चाहे बड़ा हो या छ्होटा,आगे बढ़ाने की ख्वाहिश होती है & उसके लिए पैसे की ज़रूरत होती है.बस इसीलिए मैं आपके ससुर के पास गया था मगर उन्होने मेरा ऑफर ठुकरा दिया.पता नही उन्हे मुझे अपने ग्रूप के चंद शेर्स देने मे क्या ऐतराज़ था?..",शाह थोड़ी देर खामोशी से पीता रहा.

"खैर..प्रणव..आइ होप यू डॉन'ट माइंड इफ़ आइ कॉल यू ओन्ली प्रणव."

"नोट अट ऑल."

"प्रणव,मुझे तुम मे अपना अक्स दिखता है.",शाह की आँखो मे उसकी कही बात मे झलकता विश्वास दिख रहा था,"..मुझे लगता है कि तुम इस सुनहरे मौके का फ़ायदा उठा सकते हो."

"वो ठीक है,मिस्टर.शाह लेकिन मैं कोई फ़ैसला कैसे ले सकता हू?..मैं कंपनी का मालिक नही हू."

"नही.पर शेर्स हैं तुम्हारे पास & ससुर की दी हुई पवर ऑफ अटर्नी भी."

"मगर.."

"मगर क्या?..देखो,प्रणव ये सुनेहरी मौका है & इसमे तुम्हारा भी बहुत फ़ायदा हो सकता है..तुम मेरी बात समझ रहे हो.",शाह का बोलने का लहज़ा थोड़ा बदल गया था.

"ज़रा तफ़सील से कहिए."

"देखो,प्रणव.इस कंपनी का मालिक विजयंत है & उसके बाद कौन?"

"समीर.",प्रणव की आवज़ का ठंडापन शाह से च्छूपा नही.

"& तुम..बस वही चंद शेर्स..कहने को बोर्ड पे हो..हर फ़ैसले के वक़्त तुम्हारी मौजूदगी ज़रूरी है..लेकिन क्या सचमुच तुम्हारी राई के बिना कोई भी फ़ैसला रुकता है नही..क्यूकी फ़ैसला तो केवल मालिक ही लेता है..ये सब तो बस फॉरमॅलिटीस हैं.",प्रणव को उसकी बातें सच लग रही थी..वो भी तो बस 1 नौकर ही था..अपने ससुर का.

"..ये मौका है प्रणव की तुम मालिक बन जाओ.मैं ये नही कह रहा कि विजयंत को हटा दो लेकिन मुझे लगता है की अब उसका वक़्त पूरा हो गया है.उसकी सोच अब पहले जैसी पैनी नही रही ही & उपर से ये समीर का चक्कर.वक़्त रहते अगर किसी जवान,चुस्त शख्स ने ग्रूप की बागडोर नही संभाली तो सब बिखर सकता है & इतने दिन हो गये..मुझे नही लगता समीर वापस आने वाला है...तो 1 तरह से तो तुम ग्रूप की भलाई के लिए ये सब कर रहे हो."

"हूँ..लेकिन फिर भी मुझे क्या फ़ायदा होगा इतना बड़ा रिस्क उठाने से?"

"हूँ..",शाह ने अपनी ड्रिंक ख़त्म की & उसकी पीठ पे धौल जमाया,"..अब की तुमने समझदारी वाली बात!..मैं दुनिया मे काई जगह घुमा हू & खास कर के वो जगहें जिन्हे टॅक्स हेवन्स कहा जाता है.",वो हंसा तो प्रणव भी मुस्कुरा दिया.टॅक्स हेवन्स-ऐसे मुल्क जोकि बस 1 छ्होटा सा जज़ीर-आइलॅंड रहता है & वाहा के टॅक्स के क़ानून बिल्कुल बकवास.थोड़े कागज़ी खेल खेल के आप अपना काला धन वाहा के बाँक्स मे महफूज़ रख सकते हैं.

"..केमन आइलॅंड्स के बॅंक मे तुम्हारे नाम से 1 रकम जमा कर दी जाएगी.बस तुम मेरे पैसे लेके मुझे ट्रस्ट के शेर्स दिलवा दो.",शाह उसके जवाब का इंतेज़ार करता उसे देख रहा था & प्रणव सर झुका के अपनी ड्रिंक पी रहा था.

कुच्छ देर बाद उसने अपना सर उठाया & ग्लास बार पे रखा.उसकी आँखो के भाव को देख के शाह समझ नही पा रहा था की उसकी बात उसे पसंद आई या नही.

"दट'स इट!",कुच्छ देर बाद ही प्रणव के चेहरे का भाव बदला & मुस्कुराते हुए उसने अपना हाथ आगे बढ़ा दिया था.शाह ने उसे खुशी से थामा & हिलाने लगा.

"उस शख्स को यहा पे 1 निशान था.",रंभा विजयंत मेहरा के सीने पे अपनी छातियाँ दबाए,उसकी पेड़ के तनो जैसी जाँघो पे अपनी मुलायम,भारी जंघे टिकाए लेटी उसके बाए गाल पे दाए हाथ की उंगली फिरा रही थी.

"तुमने ये बात रज़ा को क्यू नही बताई?",विजयंत ने उसके बालो को उसके कान के पीछे किया & उसकी उंगली उसके गोरे गालो पे घूमने लगी.बहू की चूत के नीचे दबा उसका लंड भी धीरे-2 अपना सर उठा रहा था.

"मेरे दिमाग़ से ये बात बिल्कुल उतर गयी थी.अभी अचानक याद आई.",पिच्छली शाम ही विजयंत के अपनी खफा बहू को मनाने के बाद ही दोनो चुदाई मे जुट गये थे.विजयंत बस 1 बार झाड़ा था लेकिन रंभा को तो होश भी नही था कि वो कितनी बार झड़ी & कब सो गयी.कुच्छ देर पहले उसकी नींद खुली तो उसने देखा की घड़ी मे 3 बज रहे हैं.ससुर के नंगे,मज़बूत मर्दाना जिस्म को जैसे ही उसने छेड़ना शुरू किया तो वो भी फ़ौरन जाग गया.

"1 आइडिया आया है.",रंभा के दिमाग़ मे बिजली सी कौंधी & वो ससुर के सीने से उठ गयी.उसके घुटने ससुर के जिस्म के दोनो तरफ बिस्तर पे जम गये & जैसे ही विजयंत ने उसकी कमर को थामा वो उसका इशारा समझ उपर उठी & फिर उसके लंड पे चूत को झुकाने लगी,"..उउम्म्म्म..!",उसकी आँखे मस्ती मे बंद हो गयी.

"कैसा आइडिया?",विजयंत की आँखे भी लंड के बहू की कसी चूत से जकड़े जाने से मज़े मे मूंद गयी.

"ऊहह..",रंभा ने ससुर के सीने के बालो को मुत्ठियो मे भर हल्के से खींचा & मस्ती मे अपनी कमर हिलाने लगी,"..देखिए,आपने रज़ा को कह दिया है कि मैं डेवाले जा रही हू.आप ये बात लीक भी कर दीजिए..आन्न्न्नह..इतनी ज़ोर से नही..!",विजयत ने जोश मे उसकी गंद की फांको को बहुत ज़ोर से दबोच लिया था.

"मगर क्यू?",उसके हाथ बहू के पेट से उसकी चूचियो तक घूम रहे थे.वो बस अपनी उंगलियो के पोरो से उसके कड़े निपल्स को छुते हुए हाथ उपर-नीचे सरका रहा था.

"ताकि वो शख्स धोखा खा जाए & अगर उसका निशाना मैं हू तो वो यहा से डेवलाया चला जाए & मैं यही कही छुप के रहू..ऊन्नह....उउम्म्म्मम..!",विजयंत ने बहू की चूचियाँ पकड़ उसे नीचे खींचा & फिर उसकी कमर को बाहो मे जाकड़ उसकी गर्दन चूमते हुए नीचे से कमर उच्छाल-2 के उसकी चुदाई करने लगा.

"आन्न्न्नह..निशान पड़ जाएगा,दाद..ऊव्ववववव..प्लीज़..नाआअहह..!",लंड के क़ातिल धक्को ने उसे बहुत मस्त कर दिया & वो ससुर के होंठो को अपनी गर्दन से जुदा करते हुए,उसकी जाकड़ से च्चटपटाते हुए उपर उठ गयी & चीख मारते हुए पीछे उसकी जाँघो पे गिर के झड़ने लगी.विजयंत ने लेटे-2 ही उसकी उसके लंड को कस्ति चूत मे से उसके बिल्कुल लाल हो चुके दाने को अपने बाए हाथ के अंगूठे से छेड़ा.रंभा के मस्ताने जज़्बात विजयंत की इस हरकत से उसके काबू मे ना रहे & उसकी आँखो से छलक पड़े.

"प्लान तो बढ़िया है मगर इसमे ख़तरा भी है.",वो जल्दी से उठा & अपनी बहू को अपनी टाँगो से उठाके बाहो मे भर लिया .रंभा उसके सीने के बालो मे मुँह च्छुपाए सिसक रही थी.विजयंत ने उसकी चूत मे लंड धंसाए हुए उसकी गंद को थामे हुए अपने घुटने मोड & उसे अपनी गोद मे ले लिया.

"आप ख़तरो से कब से डरने लगे?",संभालने के बाद रंभा ने नज़रे उपर की & अपने ससुर की आँखो मे झाँका.विजयंत को उन निगाहो मे सुकून के पीछे च्चिपी मस्ती & 1 चुनौती भी थी.

"मुझे ख़तरो से कब डर लगा है!",विजयंत ने उसके लंबे बालो को पीछे खींचा तो रंभा को थोड़ा दर्द हुआ लेकिन ससुर के इस तरह उसकी बात को दिल से लगाने से उसे थोड़ा मज़ा भी आया-वो मज़ा जो प्रेमी-प्रेमिका 1 दूसरे को छेड़ने मे पाते हैं,"..मुझे तुम्हारी फ़िक्र है बस.",रंभा ने सर पीछे झुकाया था तो उसकी गोरी गर्दन विजयंत के सामने चमक उठी थी & उसके बेसबरे होंठ उसी से चिपक गयी थी.

"थोड़ा ख़तरा तो उठाना ही पड़ेगा ना...आन्न्न्नह.नही..कहा ना दाग पड़ जाएगा!",रंभा ने ससुर के बाल उठा के उसकी गर्दन को शिद्दत से चूमते होंठो को अपनी गर्दन से अलग किया.विजयंत उसकी कमर & गंद को थामे ज़ोर-2 से धक्के लगा रहा था.

"प्लान तो ठीक लगता है.मैं डेवाले मे अपने आदमियो को चौकन्ना कर दूँगा & हो सकता है वो शख्स पकड़ा जाए.",रंभा ससुर के लंड की चुदाई से मस्त हो अपनी कमर हिला के उसके धक्को का जवाब दे रही थी & उसके बालो को पकड़े उसे पागलो की तरह चूम रही थी.विजयंत ने अब उसकी गंद की मोटी फांको को अपने बड़े-2 हाथो मे थाम लिया था & घुटनो पे बैठ ज़ोर-2 से लंड अंदर-बाहर कर रहा था.

"ऊवुयूयियैआइयैआइयीयीयियी......अभी तक कोई फोन नही आया ना?..आन्न्‍न्णनह....हान्न्न्नह..!",वो पीछे झुकी थी & विजयंत उसके निपल्स को दांतो से काट रहा था.

"नही.",विजयंत को भी अब समीर की चिंता हो रही थी.उसने दाए हाथ से रंभा की गंद थामे हुए बाए से उसकी दाई चूची को मसला & बाई चूची को मुँह मे भर चूसने लगा.ससुर की ज़ुबान की गुस्ताख हर्कतो ने रंभा की जिस्म मे बिजलियो की कयि लहरें दौड़ा दी & वो उसके सर को पकड़े च्चटपटाने लगी.दोनो जिस्म 1 दूसरे से चिपके 1 बार फिर मस्ती के आसमान मे घूमने लगे थे.रंभा ने दोनो बाहें विजयंत के कंधो पे टिका के उसके सर को अपनी पकड़ मे जाकड़ लिया था & अपना सर उसके सर के उपर टिकाके पागलो की तरह चीख रही थी.उसका जिस्म झटके खा रहा था & नीचे विजयंत उसकी चूचियो को मुँह मे भरता आहें भर रहा था.दोनो 1 बार फिर 1 साथ झाड़ गये थे.

-------------------------------------------------------------------------------

वो शख्स बहुत बौखलाया हुआ था.उसने सवेरे ही अपना होटेल छ्चोड़ दिया था & अपनी कार भी.जब से रंभा की तलाश ख़त्म हुई थी सब कुच्छ गड़बड़ हो रहा था.पहले समीर गायब हुआ & विजयंत रंभा के साथ चिपक गया.अब तो दोनो के बीच 1 नाजायज़ रिश्ता भी जुड़ गया था & दोनो का अलग होना और मुश्किल नज़र आ रहा था.उपर से सवेरे रंभा ने उसकी शक्ल भी देख ली थी.

क्लेवर्त की पहाड़ियो मे काई होटेल्स & लॉड्जस थी & ऐसा नही था की सभी बहुत चलती थी.उसने पहले अपने गाल के निशान के उपर 1 बॅंड-एड लगाया & अपनी कार को 1 पार्किंग मे छ्चोड़ क्लेवर्त शहर से थोड़ी दूरी पे 1 पहाड़ी पे बने1 छ्होटी सी लॉड्ज मे 1 कमरा ले लिया था.अब उसे 1 नयी सवारी चाहिए थी लेकिन कैसे ये उसकी समझ मे नही आ रहा था.

उसने सबसे पहले अपना हुलिया पूरा बदला.अभी तक वो कोट & पॅंट मे रहता था.उसने मार्केट जाके सबसे पहले कुच्छ जॅकेट्स,जीन्स & स्वेटर्स खरीदे & 1 जॅकेट & जीन्स 1 पब्लिक टाय्लेट मे बदली.उसके बाद उसने पहले उस बंगल का रुख़ किया जहा सवेरे सब गड़बड़ हुआ था.वाहा अभी भी पोलीस थी.अब उसे ये पता करना था की आख़िर रंभा गयी कहा.

उस पूरे दिन उसने काई जुगाड़ किए लेकिन उसे ये नही पता चला की आख़िर विजयंत & रंभा गये कहा.जिस वक़्त विजयत्न & रंभा 1 दूसरे के आगोश मे समाए चुदाई का लुत्फ़ उठा रहे थे,वो शख्स बेचैनी से करवटें बदल रहा था & जिस वक़्त रंभा ने ससुर को अपने प्लान के बारे मे बताया,उसी वक़्त उसकी आँख लगी इस बात से बेख़बर की उसका शिकार अब उसी के लिए जाल बिच्छा रहा था.

-------------------------------------------------------------------------------

"ओह..प्रणव डार्लिंग..ऊव्ववव..",शिप्रा बिस्तर पे बुरी तरह कसमसा रही थी.उसके चेहरे पे दर्द & मस्ती से भरी मुस्कान खेल रही थी.उसकी टाँगो के बीच उसका प्यारा पति अपने घुटनो पे बैठा उसके उसकी दाई तंग को थामे उसके पैर के अंगूठे को मुँह मे चूस्ते & बीच-2 मे काटते हुए,उसे चोद रहा था.

"क्या बात है जान?..आन्न्‍न्णनह..आज तो तुम बहुत जोश मे हो..हााआ....!",शिप्रा ने अपने बाए घुटने पे जमे प्रणव के हाथ की उंगलियो मे अपने बाए हाथ की उंगलिया फँसाई तो प्रणव उसकी टांग के गुदाज़ हिस्से को चूसने लगा.

"तुम्हे देख को तो हमेशा ही मेरा ये हाल हो जाता है,डार्लिंग!",प्रणव के आंडो मे अब मीठा दर्द हो रहा था.बहुत देर से वो खुद पे काबू रखे हुए थे.उसने उसकी टांग छ्चोड़ी & शिप्रा के उपर लेट गया & उसकी गर्दन के नीचे बाई बाँह लगा के उसे आगोश मे भर लिया,"..1 बात पुच्छू?"

"पूछो ना जान.",शिप्रा ने पति के चेहरे को हाथो मे भर चूम लिया.

"तुम्हारे पास कंपनी के शेर्स हैं & तुम भी ग्रूप की मालकिन हो,अगर मैं कोई फ़ैसला लू तो क्या तुम मेरा साथ दोगि?",प्रणव के धक्के तेज़ ओ गये थे.वो अब जल्द से जल्द झड़ना चाहता था.शिप्रा की टाँगे उसकी पिच्छली जाँघो पे जम गयी थी & वो नीचे से कमर उचकाने लगी थी.

"क्या बात है प्रणव?",उसने उचक के उसे चूमा तो प्रणव ने भी अपनी ज़ुबान उसकी ज़ुबान से लड़ा दी.

"वक़्त आने पे बताउन्गा.तुम्हे मुझपे यकीन तो है ना,शिप्रा की मैं बस कंपनी के भले के लिए फ़ैसला लूँगा?",पति-पत्नी दोनो 1 दूसरे से बेचैनी से गुत्थमगुत्था थे.

"ओह..हां प्रणव,पूरा भरोसा है डार्लिंग....आन्न्‍न्णनह..!"

"थॅंक्स,जान!..य्ाआअहह..!",दोनो 1 दूसरे को चूम रहे थे & दोनो के बदन झटके खा रहे थे.शिप्रा झाड़ रही थी & प्रणव अपना वीर्य उसकी चूत मे छ्चोड़ रहा था.

-------------------------------------------------------------------------------

विजयंत ने अगली सुबह ये खबर अपने मीडीया के सोर्सस के ज़रिए लीक करा दी कि रंभा वापस डेवाले जा रही है.एरपोर्ट पे तेज़ी से चेक इन काउंटर की ओर जाती रंभा के पीछे उस से सवाल पूछते रिपोर्टर्स की तस्वीरे उस शख्स ने टीवी पे देखी & मुस्कुरा दिया.

उधर रंभा ने टिकेट लिया था पंचमहल & फिर वाहा से डेवाले का लेकिन उसने पंचमहल से आगे की फ्लाइट नही ली.उसकी जगह बलबीर मोहन की कंपनी की 1 लड़की ने रंभा के टिकेट से सफ़र किया.अब कोई भी फ्लाइट रेकॉर्ड्स चेक करता तो यही समझता की रंभा डेवाले पहुँच गयी.

रंभा को बस 1 रात पंचमहल मे अकेले गुज़ारनी थी & फिर वाहा से अगले दिन वो ट्रेन & सड़क के रास्ते वापस क्लेवर्त जाने वाली थी.इन सब बातो से बेख़बर वो शख्स अपना समान बाँध रहा था डेवाले जाने के लिए.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply

11-03-2018, 02:02 AM,
#42
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--42

गतान्क से आगे......

सोनिया क्लेवर्त पहुँच चुकी थी & वाहा पहुँचते ही उसने विजयंत मेहरा को फोन किया.

"सोनिया जान..तुम यहा क्यू आई?",वियजयंत सच मे परेशान हो उठा था.सोनिया का वो इस्तेमाल कर रहा था लेकिन वो 1 सीधी लड़की थी & वो नही चाहता था कि वो यहा के ख़तरे मे फँसे.

"मुझे बस तुमसे मिलना है,विजयंत..अभी!",सोनिया की आवाज़ ने विजयंत को खामोश कर दिया.उसकी परेशानी,उसकी उलझन सब झलक रहा था उसकी आवाज़ मे.

"तुम ठहरी कहा हो?"

"होटेल पॅरडाइस मे."

"हूँ..आज शाम 8 बजे तुम होटेल वाय्लेट आओ.रिसेप्षन पे आके बस इतना कहना कि रॉयल सूयीट मे ओनर से मिलना है.ओके.जो मैने कहा है उसे बिल्कुल वैसे ही दोहराना.कुच्छ ही देर मे तुम मेरे साथ होगी."

"ओके,विजयंत."

-------------------------------------------------------------------------------

"1..2..3..4..",तेज़ म्यूज़िक के साथ गाने की लाइन्स पे कामया & कबीर कॉरियोग्रफर के बताए स्टेप्स कर रहे थे.पीछे धारदार फॉल्स के झरनो का खूबसूरत नज़ारा कॅमरा में अपने कैमरे मे क़ैद कर रहा था.

"कट..!",कॉरियोग्रफर बोला & म्यूज़िक रुक गया & दोनो सितारे अपनी-2 कुर्सियो पे आ के बैठ गये.डाइरेक्टर दोनो के पास आया,"कबीर..कामया..इस गाने की शूटिंग के बाद 3-4 एमोशनल सीन्स भी यहा & आस-पास के इलाक़े मे शूट करने हैं.ये हैं वो सीन्स..",उसने 2 फाइल्स दोनो को थमायी,"..डाइलॉग्स याद कर लेना.हो सके तो कल ही कर लेंगे.ओके."

"ये भी ना!",कबीर ने फाइल अपने स्पोतबॉय को थमायी,"..साला 2-2 पेज के डाइलॉग लिखवा लेता है..शूटिंग के बाद सोचा था की तुम्हारे साथ वक़्त गुज़रुँगा लेकिन नही इसे ये बात पसंद थोड़े ही आएगी!",कामया हँसने लगी.

"कम ऑन,लव!",उसने उसकी टांग पे हाथ मारा & फिर अपना मेक-अप करवाने लगी.पीछे शूटिंग देखने वालो की भीड़ लगी थी & उनमे से कुच्छ लोग दोनो सितारो का नाम पुकार रहे थे.

अगला शॉट ऐसा था की दोनो अदाकारो को 1 क्रॅन,जैसी की बिजली कंपनी वाले बिजली के पोल्स को चेक करने के लिए इस्तेमाल करते हैं,उसपे खड़े होके गाने की लाइन्स पे होंठ हिलाने थे.मेक-अप कर & कॉरियोग्रफर से स्टेप्स समझ के दोनो क्रॅन पे चढ़ गये.अब कॅमरमन को बस उनकी कमर तक के शॉट्स लेने थे ताकि क्रॅन की ट्रॉली शॉट मे ना आए.

क्रॅन ऑपरेटर ने क्रॅन को उपर करना शुरू किया.कबीर कामया के पीछे उसके कंधो पे हाथ रखे खड़ा था.कामया मन ही मन हंस रही थी क्यूकी उसे पता था कि कबीर को ऊँचाई से डर लगता है & इस वक़्त उसकी हालत खराब थी.जब क्रॅन सही ऊँचाई पे पहुँचा गयी तो ऑपरेटर ने उसे रोक दिया.कामया कॉरियोग्रफर के मेगफोन से आक्षन की आवज़ सुनने का इंतेज़ार कर रही थी.

"क्या हुआ,पॉपी?",उसने नीचे खड़े कॉरियोग्रफर को इशारा किया तो पॉपी ने कॅमरमन की ओर इशारा किया जोकि अपने असिस्टेंट्स के साथ कमेरे मे कुच्छ कर रहा था.कामया बोर होके नीचे खड़ी भीड़ को देखने लगी की तभी उसकी निगाह भीड़ से अलग-थलग 1 पेड़ के नीचे बैठ 1 कोल्ड ड्रिंक पीती 1 लड़की पे पड़ी..सोनिया मेहरा यहा..उसने आँखे थोड़ी सिकोड के उस लड़की के चेहरे को गौर से देखने की कोशिश की..कही और कोई तो नही..

"रेडी कबीर..कामया?",पॉपी की आवाज़ पे दोनो तैय्यार हो गये & फिर अगले कुच्छ पॅलो तक शूटिंग होती रही.शूटिंग ख़त्म होते ही क्रॅन नीचे आने लगी & कामया की

निगाहें उस लड़की से छिपा गयी..हां ये सोनिया ही थी..ये यहा क्या कर रही है..& फिर उसके होंठो पे मुस्कान खेलने लगी..विजयंत मेहरा..!

"मैं अभी आई,लव.",कबीर अपने धड़कते दिल को शांत कर रहा था.कामया उसके कंधे थपथपाते हुए अपने स्पॉटबाय से अपना मोबाइल ले अपनी वॅन मे चली गयी.

"हाई!विजयंत,डार्लिंग.कैसे हो?"

"ठीक हू,कामया.तुम सूनाओ?"

"मैं ठीक हू.समीर का कुच्छ पता चला?"

"कोशिश जारी है,कामया देखो क्या होता है."

"हूँ..तुम यही हो क्लेवर्त मे?"

"हां,क्यू तुम भी यही हो क्या?"

"हां,कल शाम ही आई.आना तो दिन मे था पर कल सवेरे फॉल्स बंद थे तो शूटिंग हो नही सकती थी तो शाम को आई."

"अच्छा."

"तो मिलो ना जान.आज शाम कैसा रहेगा?"

"आज..आज नही कामया..आज कुच्छ अपायंटमेंट है."

"अरे मैं तो भूल गयी थी,तुम्हारी बहू भी है ना यहा."

"अरे नही,कामया उसकी वजह से नही.",विजयंत हंसा,"..उसे तो मैने डेवाले भेज दिया.किसी और से मिलना है."

"ओह.तो कल?"

"हां,कल पक्का डार्लिंग.मैं फोन करूँगा."

"ओके,जान.",कामया ने फोन बंद किया & मुस्कुराइ..विजयंत डार्लिंग आज किस से अपायंटमेंट है मुझे पता है..वो हँसी & वॅन से बाहर चली गयी.

सोनम का दिल बहुत ज़ोरो से धड़क रहा था.आज प्रणव 9 बजे से भी पहले दफ़्तर आ गया था & अपने लॅपटॉप पे जुटा हुआ था.सोनम से सवेरे से उसने कयि सारी फाइल्स उसके डेस्कटॉप पे सर्च कर उसे फॉर्वर्ड करने को कही थी & कुच्छ की तो हार्ड कॉपीस भी अलग-2 डिपार्ट्मेंट्स से मंगवा के देख रहा था.दोपहर 1 बजे के बाद उसने लॅपटॉप पे बैठे-2 टाइपिंग शुरू कर दी.अच्छी सेक्रेटरी होने का नाटक करते हुए सोनम ने उस से बोला कि वो ये काम कर देगी तो उसने उसे मना कर दिया & बाहर अपनी डेस्क पे बैठने को कहा.

सोनम के कान इस बात से खड़े हो गये थे & उसने तय कर लिया कि वो ज़रूर देखेगी की आख़िर प्रणव कर क्या रहा है.दोफरा लंच मे भी प्रणव कॅबिन से बाहर नही निकला.उस वक़्त सोनम ने अंदर झाँका तो देखा की प्रणव कॅबिन मे ही बने बाथरूम मे चला गया.वो झट से उठी & जाके उसके लॅपटॉप को देखा & उसकी आँखे फॅट गयी.प्रणव महादेव शाह नाम के आदमी को कंपनी मे पैसा लगाने देना चाहता था & इसके लिए वो अपने ब्रोकर्स के ज़रिए कंपनी के शेर्स बाज़ार से खरीद रहा था.तभी फ्लश की आवाज़ आई & वो झट से बाहर भागी.

उसकी समझ मे अभी भी नही आ रहा था कि वो ये बात विजयंत मेहरा या ब्रिज कोठारी को बताए या नही.ना जाने क्यू उसे बड़ी घबराहट हो रही थी.उसने 1 बार फिर इस फ़ैसले को कल पे टाल दिया.उसका मोबाइल बजा तो उसने देखा की रंभा का फोन है,"हेलो."

"हाई सोनम,कैसी है?"

"अच्छी हू,मालकिन!",शादी के बाद वो अपनी सहेली को इसी तरह चिढ़ने लगी थी.

"चुप कर वरना फोन काट दूँगी!"

"अच्छा बाबा..सॉरी!",सोनम हँसी,"..& बता समीर का कुच्छ पता चला कि नही?"

"नही यार.अच्छा सुन मुझे 1 काम था."

"हां,बोल ना."

"तुझे वो प्लेसमेंट एजेन्सी वाला बंदा विनोद याद है?"

"हां."

"बस ये पता कर दे वो आजकल कहा है & 1 आदमी है परेश नाम का..",उसने दोनो के बारे मे उसे बताया & पता करने को कहा.सोनम के दिल मे 1 बार ये ख़याल आया कि वो अपनी सहेली को ही प्रणव के बारे मे बता दे लेकिन फिर उसके घबराए दिल ने उसे रोक दिया.

-------------------------------------------------------------------------------

"हाई!सोनिया,वॉट ए प्लेज़ेंट सर्प्राइज़!",कामया ने होटेल वाय्लेट की लॉबी मे रिसेप्षन की ओर बढ़ती सोनिया को चौंका दिया.सोनिया के चेहरे का रंग उड़ गया.उसने सोचा भी नही था की इतनी सावधानी बरतने के बावजूद वो किसी जान-पहचान वाले से टकराएगी..लेकीब अब उसे क्या परवाह थी इन बातो की!

"हाई!कामया.कैसी हो?"

"बढ़िया.यहा किसी से मिलने आई हो?",कामया ने गहरी निगाहो से उसे मुस्कुराते हुए देखा.

"हां.",1 पल के बाद उसने जवाब दिया,"..इफ़ यू डॉन'ट माइंड."

"नोट अट ऑल.",कामया ने उसका रास्ता छ्चोड़ दिया & मुस्कुराते हुए उसे लिफ्ट की ओर जाते देखते रही.

-------------------------------------------------------------------------------

शाम तक रंभा को सोनम ने बता दिया था कि परेश तो अमेरिका चला गया & विनोद वही शहर मे ही है & रोज़ ही दफ़्तर आ रहा है.रंभा के दो पुराने प्रेमी शक़ के दायरे से बाहर हो गये थे.

उसने ससुर को फोन लगाके उन्हे ये बात बताई & उनसे जुदाई का दर्द बयान किया.कुच्छ देर बातें करने के बाद वो फोन रख के टीवी देखने लगी.विजयंत की सख़्त हिदायत थी कि वो होटेल के कमरे से बाहर ना निकले.पंचमहल वाय्लेट मे किसी दूसरे नाम से लॅडीस फ्लोर पे उसके नाम का कमरा बुक था.होटेल के नीचे बलबीर मोहन की सेक्यूरिटी एजेन्सी के 3-4 लोग होटेल पे नज़र रखे थे & रंभा से फोन से कॉंटॅक्ट करते रहते थे.किसी भी गड़बड़ी की सूरत मे रंभा को सबसे पहले उन्ही लोगो को फोन करना था.कल सवेरे भी वो उन्ही लोगो के साथ वापस अपने ससुर के पास जा रही थी.

ससुर के ख़याल ने उसके जिस्म मे आग लगा दी & उसने अपने कपड़े उतार दिए & बाथरूम के बात्ट्च्ब मे जा बैठी.ठंडा पानी भी उसके बदन की अगन नाहही बुझा पा रहा था.रंभा ने अपनी उंगली अपनी चूत से लगा दी & आँखे बंद कर ससुर का तस्साउर करते हुए अपने दाने को रगड़ने लगी.

“ओह..विजयंत!”,सूयीट मे दाखिल होते ही सोनिया की रुलाई छूट गयी & वो विजयंत मेहरा से लिपट गयी.

“बस..बस..!”,विजयंत ने उसे अपनी बाहो मे भर उसकी पीठ सहलाई & उसके बालो को चूमा.

“मैं अब उस आदमी के साथ नही रह सकती.”,सोनिया की आँखे लाल हो गयी थी,”..मुझे नही पता था कि वो चंद रुपयो के फ़ायदे के लिए इतना गिर जाएगा.”

“देखो,सोनिया अभी तुम बहुत जज़्बाती हो रही हो.ऐसे अहम फ़ैसले इस तरह नही लिए जाते जान.”,विजयंत ने उसके गोरे गालो से आँसुओ को पोंच्छा & चूम लिया.

“मैने बहुत सोच समझ के ये फ़ैसला लिया है,विजयंत.मुझे पता है मैं तुम्हारी बीवी कभी नही बन सकती लेकिन मुझे उस बात से कोई फ़र्क नही पड़ता.मैं तुम्हारी रखैल बन के भी रहने को तैयार हू.”

“सोनिया!”,विजयंत ने उसकी कमर मे बाहे डाल उसे खुद से चिपका लिया,”..यू खुद को बेइज़्ज़त & मुझे शर्मिंदा ना करो.”,उसने अपनी प्रेमिका के होंठ चूमे,”..लेकिन तुम्हे इतना यकीन कैसे है कि ब्रिज कोठारी ही समीर के लापता होने के पीछे है?”

“तुम्हे नही मालूम की पिच्छले 2 दिनो से वो इसी जगह के आस-पास है?”,विजयंत खामोश रहा.मीडीया को ये भनक नही लगने दी गयी थी या फिर विजयंत & पोलीस की गुज़ारिशो को मान उन्होने धारदार फॉल्स वाली खबर च्छूपा ली थी,”तुम मुझसे कुच्छ च्छूपा रहे हो क्या?”,विजयंत ने सर झुका लिया,”मुझे सब कुच्छ बताओ.”,सोनिया की आवाज़ मे कुच्छ ऐसा था की विजयंत उसे मना नही कर पाया.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:02 AM,
#43
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--43

गतान्क से आगे......

“तो ये थी सारी बात.”,दोनो बिस्तर पे लेटे थे.सोनिया की स्लीव्ले घुटनो तक की सफेद ड्रेस थोड़ा नीचे खिसकी थी & उसकी गोरी जाँघो का कुच्छ हिस्सा नुमाया हो गया था.विजयंत उसकी बाई तरफ लेटा था & उसका बाया हाथ उसके घुटने के उपर ही घूम रहा था.अब सोनिया भी थोड़ी संभाल गयी थी & अपने आशिक़ की नज़दीकी & उसके मर्दाना जिस्म के एहसास ने उसके जज़्बातो का रुख़ भी अब मोड़ दिया था.उसका दाया हाथ भी विजयंत की कमीज़ के खुले बटन्स के पार उसके सीने के बालो मे घूम रहा था.

“& तुम फिर भी मुझसे उस गलिज़ इंसान को छ्चोड़ने से रोक रहे हो?!”,उसकी उंगलियो ने विजयंत के बाए निपल को छेड़ा.

“देखो,सोनिया..”,विजयंत थोड़ा घूम उसके जिस्म पे अपने आधे बदन का भर डालते हुए उसकी जाँघो के बीच घुसे हाथ को उपर उसकी पॅंटी की ओर बढ़ने लगा,”..मुझे नही लगता की कोठारी इतना बेवकूफ़ है कि ऐसा काम करे & उसमे अपने शामिल होना यू इस तरह ज़ाहिर करे.”,उसका हाथ पॅंटी के उपर से ही सोनिया की चूत को सहला रहा था.सोनिया ने मस्ती मे भर उसके बालो को पकड़ उसे नीचे खींचा & उसके मुँह मे अपनी ज़ुबान घुसाते हुए उसे शिद्दत से चूमने लगी.

“उउम्म्म्म..लेकिन ये भी तो हो सकता है कि,ऐसा नाज़ुक काम किसी & के हाथो मे देने का भरोसा ना हो उसे..आननह..”,सोनिया की उंगलिया विजयंत की बाहो पे कस गयी क्यूकी उसके आशिक़ की उंगलिया उसकी पॅंटी के बगल से अंदर घुस उसकी चूत को कुरेदने लगी थी,”..& इसीलिए उसे खुद आना पड़ा & तुमने उसे देख लिया..आननह..!”,सोनिया के नाख़ून कमीज़ के उपर से ही विजयंत के माबूत बाजुओ मे धँस गये & उसके चेहरे पे वोही दर्द & मस्ती का मिला-जुला भाव आ गया जो किसी लड़की के चेहरे पे मस्ती की शिद्दत का एहसास करने पे आता है.

“हो सकता है.",विजयंत ने उसके रसीले होंठो को चूमा & उसके उपर आ अपना हाथ उसकी चूत से खींचा & अपने लंड को उसकी पॅंटी के उपर से ही उसकी गीली चूत पे दबाया & उसे दिखाते हुए उसके रस से भीगी अपनी उंगलिया मुँह मे घुसा उसका रस पी लिया.सोनिया विजयंत की इस हरकत से मस्ती & उसके लिए प्यार से भर उठी & उसने अपने हाथ उसकी कमीज़ के अंदर घुसा उसे ऐसे फैलाया की उसके बटन्स टूट गये & अगले ही पल कमीज़ विजयंत के जिस्म से जुदा थी.दोनो ने 1 दूसरे को बाहो मे भींच लिया & अपने-2 जिस्मो को आपस मे रगड़ते हुए अपने नाज़ुक अंगो को आपस मे दबाते हुए 1 दूसरे को चूमने लगे.

“मुझे प्यार करो,विजयंत..इतना प्यार कि मैं सब भूल जाऊं..सब कुच्छ..!”,सोनिया के आँखो के कोने से आँसुओ की 2 बूंदे उसके गालो पे ढालक गयी.विजयंत के लिए सोनिया बस 1 मोहरा थी लेकिन इस वक़्त उसे अपने आप पे शर्म आई..वो 1 मासूम लड़की के जज़्बातो से खले रहा था..लेकिन इसमे उसकी क्या ग़लती थी?..वो चाहती तो उसे ठुकरा भी सकती थी लेकिन उसने भी पति से बेवफ़ाई करने का फ़ैसला खुद ही लिया था..& फिर कोठारी को हराने के लिए वो कुच्छ भी कर सकता था..कुच्छ भी!

सोनिया के लब थरथरा रहे थे & जिस्म कांप रहा था.उसका दिलज़ीज़ आशिक़ उसके कपड़े उतार रहा था.कैसा अजीब एहसास था ये..हर बार उसके सामने नंगी होने पे उसे ये शर्म,ये झिझक महसूस होती थी & साथ ही दिल भी आने वाली उमँगो की हसरत से & तेज़ी से धड़कने लगता था..वो उसे ब्रिज से भी पहले क्यू नही मिला..फिर ना ये दर्द होता ना तड़प..बस खुशी ही खुशी होती & मस्ती ही मस्ती!

विजयंत खुद भी नंगा हो गया & सोनिया के उपर लेट गया.2 हसरातो से भरे जिस्म 1 दूसरे से लिपट गये & मस्ती का खेल शुरू हो गया.

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

वो शख्स अपना समान बाँध चुका था लेकिन अब उसने डेवाले जाने का ख़याल बदल दिया था..वो इतना उतावला क्यू हो रहा था?..जहा इतने बरस इंतेज़ार किया उसने वाहा चंद दिन और सही..कल सवेरे की घटना के बाद विजयंत तो बहुत होशियार हो गया होगा & इसीलिए उसने अपनी बहू को महफूज़ जगह यानी अपने घर भेज दिया.वाहा जाने मे बहुत ख़तरा था.उसे इन्तेक़ाम लेना था लेकिन उसके बाद फिर से हवालात जाने का शौक उसे नही था..बहुत देर सोचने के बाद उसने वो रात वही गुज़ारना तय किया.उसे क्या पता था कि उसका ये फ़ैसला विजयंत मेहरा के लिए कितना अहम होने वाला था.

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

“क्या बात है,कोठारी!”,फिर से उसी शख्स का फोन था & इस बार फिर 1 नये नंबर से.ब्रिज पिच्छले 2 दिनो से अपने हिसाब से ही उस अंजन कॉलर के बारे मे पता लगाने की कोशिश कर रहा था लेकिन टेलिकॉम डिपार्टमेंट के उसके आदमी से उसे सिर्फ़ ये पता चला था कि ये सारे नंबर क्लेवर्त के पब्लिक फोन बूत्स के थे,”..उस दिन तो यार तुम तोहफा लेने से पहले ही भाग गये.बड़े डरपोक हो यार!”,उस शख्स ने उसकी खिल्ली उड़ाई.

“कामीने!तू है कौन?चूहो की तरह च्छूप के के मुझे फँसाने की कोशिश कर रहा है.सामने से वार कर.”

“अरे यार,तुम तो मुझे दुश्मन समझते हो!मैं तो दोस्त हू तुम्हारा.उस दिन ज़रा टाइमिंग गड़बड़ हो गयी मगर आज नही होगी.आज भी आ जाओ यार & देखो की तुम्हारी प्यारी बीवी कैसे तुम्हारे दुश्मन की बाहो मे गुलच्छर्रे उड़ा रही है.”

“कुत्ते!मेरी बीवी के बारे मे ऐसी गंदी बात करता है,हराम जादे!..तुझे अपने हाथो से नर्क भेजूँगा मैं!”

“और गलियाँ दे दे यार लेकिन धारदार फॉल्स के पास के कंधार फॉल्स पे 3 बजे सुबह आओ & अपनी आँखो से देखो की तुम्हारी जान तुम्हारे दुश्मन के साथ कैसे चोंच से चोंच & और भी बहुत कुच्छ मिला रही है.”,& फोन कट गया.ब्रिज गुस्से से कांप रहा था.उसे ज़रा भी यकीन नही था उस कामीने की बात पे लेकिन..

तभी उसका मोबाइल बजा,”हेलो.”

“हाई!ब्रिज डार्लिंग.”,कामया की खनकती आवाज़ उसके कानो मे गूँजी,”..क्या जान,अपनी बीवी को लेके इतनी खूबसूरत जगह आ गये हो & मैं यहा तुम्हारे लिए तड़प रही हू!”

“क्या?!”,ब्रिज के कान खड़े हुए.

“अरे सोनिया मिली थी आज मुझे लेकिन उसने तुम्हारे बारे मे कुच्छ नही बताया..1 मिनिट..”,कामया को जैसे कुच्छ याद आया,”..वो तो मुझे वाय्लेट की लॉबी मे मिली थी.”

“क्या बोल रही हो?!”

“यही की सोनिया वाय्लेट होटेल मे क्या कर रही थी?”,ब्रिज ने फोन काट दिया.उसका चेहरा गुस्से & बेइज़्ज़ती से तमतमाया हुआ था..सोनिया..उसकी जान..बल्कि जान से भी ज़्यादा..उसे देखते ही उसके दिल मे शादी का ख़याल आया था जोकि आज तक किसी भी लड़की के लिए नही आया था & उसने इस तरह से उसका भरोसा तोड़ा था & वो भी विजयंत के साथ!

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

"आननह..डालो ना अंदर..ऐसे मत तड़पाव..हाईईईईईईईई..!",सोनिया की खुली टाँगो के बीच उसकी गीली चूत की दरार पे अपना लंड रगड़ते विजयंत उसके जोश को देख मुस्कुरा रहा था.इस वक़्त वो अपनी सारी उलझन भूल बस उसके लंड की चाहत मे दीवानी हो रही थी.विजयंत ने उसके घुटने मोडते हुए उन्हे उसकी छातियो पे दबाया & 1 ही झटके मे लंड को अंदर घुसा दिया.सोनिया के चेहरे पे दर्द की लकीरें खींच गयी लेकिन साथ ही 1 मस्ती भरी मुस्कान भी उसके होंठो पे खेलने लगी.विजयंत का लंड उसकी कोख तक जा रहा था & उसका जिस्म अब खुशी से भर गया था.विजयंत घुटनो पे बैठे हुए उसकी चूचियो को मसलता उसे चोद रहा था लेकिन उसके ज़हन मे रंभा का चेहरा घूम रहा था.अपनी बहू जैसी मस्तानी लड़की आजतक उसके करीब नही आई थी & बस 1 रात की दूरी भी उसे खलने लगी थी.

"ऊव्ववव..आननह..!",उसकी बाहो मे नाख़ून धँसती सोनिया चीख रही थी.रंभा के ख़याल ने विजयंत के जोश को बढ़ा दिया था & उसके धक्के & तेज़ हो गये थे.सोनिया के झाड़ते ही उसने उसके कंधे पकड़ उसे उपर उठाया & अपनी गोद मे बिठा के चोदने लगा.सोनिया ने उसके बाए कंधे पे अपनी ठुड्डी जमाई & उसकी गर्दन के गिर्द अपनी बाहें लपेट & उसकी कमर पे अपनी टाँगे कस आँखे बंद कर के उसके धक्को का मज़ा लेने लगी.

विजयंत के हाथो मे उसकी गंद की फांके थी & उसके होंठ सोनिया की गर्दन को तपा रहे थे.सोनिया की कसी चूत मे घुस उसका लंड अब अपनी भी मंज़िल की ओर बढ़ने को बेताब था लेकिन अभी भी विजयंत के दिलोदिमाग मे रंभा का हसीन चेहरा & नशीला जिस्म घूम रहा था.उसके होंठ सोनिया की गर्दन & बाए कंधे के मिलने वाली जगह पे चिपक गये & उसके हाथो ने उसकी गंद को मसल दिया.सोनिया ने बाल पीछे झटकते हुए ज़ोर से चीख मारी & झड़ने लगी.उसी वक़्त विजयंत के लंड ने भी अपना गर्म वीर्य उसकी चूत मे छ्चोड़ दिया.

"ट्ररननगज्गग..!",विजयंत ने वैसे ही अपनी महबूबा को अपनी गोद मे थामे हुए बाए हाथ को बढ़ा अपना मोबाइल उठाया-फिर से समीर के मोबाइल से फोन आ रहा था!,"हेलो."

"मेहरा,लगता है तुम्हे अपने बेटे से प्यार नही..",विजयंत को आवाज़ पिच्छली बार की ही तरह थोड़ी अजीब लग रही थी,"..तुम ना केवल पोलीस को साथ लाए बल्कि अपने जासूसी कुत्ते को भी मेरे पीछे लगाया हुआ था.लगता है इस बार तुम्हे तोहफे मे समीर के खून के साथ-2 उसके जिस्म का कोई हिस्सा भी चाहिए."

"नही!",विजयंत चीखा तो सोनिया ने उसके चेहरे को अपने हाथो मे थाम लिया.अभी चुदाई की खुमारी उतरी भी नही थी कि इस फोन ने उसे फिर से उसकी उलझानो की याद दिला दी,"..तुम उसे कोई नुकसान नही पहुचना,प्लीज़!!जो चाहते हो वोही करूँगा मैं."

"ठीक है.तो बस अभी 2.30 बजे कंधार फॉल्स पे 1 सफेद टोयोटा क़ुआलिस लेके जिसका नंबर क्प-0व-5214 होना चाहिए,पहुँचो,बिना पोलीस या बलबीर मोहन के & साथ मे वो काग़ज़ भी लाओ जिसपे ये लिखा होगा कि तुम आने वाले दिनो मे अपने कारोबार को नही बढ़ाओगे & आनेवाले 3 महीनो तक कोई नया टेंडर नही भरोगे."

"लेकिन..-",फोन कट चुका था.

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

"डॅम इट!",अकरम रज़ा ने खीजते हुए अपनी बाई हथेली पे दाए से मुक्का मारा,"..बस चंद सेकेंड्स & लाइन पे रहता तो कॉल ट्रेस हो जाती.",वो वही क्लेवर्त मे ही बैठ के विजयंत का फोन टॅप करवा रहा था,"..चलो,कंधार फॉल्स 2.30 बजे,चलते हैं.",उसने अपने मातहत अफ़सर को अपना हेडफॉन थमाया & आगे की करवाई के बारे मे सोचने लगा.

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

"विजयंत क्या हुआ डार्लिंग?",विजयंत सोनिया की गंद की बाई फाँक को थामे बाए हाथ मे फोन को पकड़े जैसे बुत बन गया था.

"ह-हुन्न्ञन्..",सोनिया की आवज़ से जैसे वो नींद से जगा,"..सोनिया..",& उसने उसे सारी बात बताई.

"मैं भी तुम्हारे साथ चलूंगी.",सोनिया अभी भी उसकी गोद मे बैठी थी.

"पागल मत बनो,सोनिया.उसने मुझे अकेला आने की सख़्त ताकीद की है."

"नही विजयंत,मैं साथ चलूंगी तुम्हारे क्यूकी मैं उसका चेहरा देखना चाहती हू.कैसा लगेगा उसे उस वक़्त जब वो अपने सबसे बड़े दुश्मन से जीतने की खुशी के बीच उसकी बाहो मे अपनी बीवी को देखेगा.विजयंत,उसने तुम्हे इतनी बड़ी चोट पहुचाई है,अब उसका भी हक़ बनता है,उतनी ही बड़ी चोट खुद खाने का!",विजयंत सोनिया को गौर से देख रहा था..सही कह रही थी वो..अगर कमीना कोठारी इस साज़िश मे शामिल है तब तो इस से करारा तमाचा उसे नही पड़ सकता & अगर नही भी शामिल है तो भी ऐसी चोट उसे पागल करने को काफ़ी है!..उसने सोनिया को बाहो मे भर लिया & उसे चूमने लगा.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

वो शख्स क्लेवर्त बस स्टॅंड की पार्किंग मे पहुँचा & पहले वाहा का जायज़ा लिया.उसकी कार अभी भी वैसे ही खड़ी थी & उसे उसपे नज़र रखता भी कोई नही दिखा.उसे 1 सवारी चाहिए थी & नयी का इंतेज़ाम करने का वक़्त नही था.अब ये ख़तरा तो उठाना ही था.उसने धड़कते दिल के साथ आगे बढ़के उसने अपनी चाभी का बटन दबाया & पिंग की आवाज़ के साथ लॉक खुल गया.ठीक उसी वक़्त उसके कंधे पे किसी ने हाथ रखा.उसकी धड़कन & तेज़ हो गयी & वो बहुत धीरे से घुमा.उसे पूरी उमीद थी कि कयि पोलिसेवाले उसकी तरफ अपनी बंदुके ताने खड़े होंगे.उसे खुद पे खिज भी हुई कि क्यू आया था वो इस जगह वापस!

"भाई साहब,आपके पास .50 के छुत्ते होंगे?",1 चश्मा लगाए भला सा शख्स उसके सामने 50 का नोट लिए खड़ा था.उसने राहत की सांस ली.किसी अंकन शख्स को देख ऐसी खुशी उसे पहले कभी नही हुई थी.

"हां-2.ये लीजिए.",उसने छुत्ते उसे दिए & अपनी पार्किंग स्लिप & दिन भर कार खड़ी करने के पैसे उसने अटेंडेंट को थमाए & वाहा से निकल गया.बाहर निकलते ही 1 थोड़ी सुनसान जगह पे सुने रास्ते के किनारे लगे नाल से पानी ले थोड़ी मिट्टी के साथ कीचड़ बना अपनी कार की बॉडी & उसके नंबर प्लेट्स पे ऐसे रगड़ा की देखने वाले को लगे की कार कीचड़ भरे रास्ते से आई है.उसका असली मक़सद तो कार का नंबर च्छुपाना था.उसने कार आगे बढ़ाई & होटेल वाय्लेट से थोड़ा पहले बने सस्ते होटेल्स के सामने लगा दी & अपनी सीट थोड़ा नीचे कर लेट गया.इस जगह से वाय्लेट का मैं एंट्रेन्स सॉफ दिखता था.उसने घड़ी पे नज़र डाली.अभी 11 बजे थे.बस उसे विजयंत मेहरा पे नज़र रखनी थी.हो ना हो वो अपनी बहू के पास या उसकी बहू उसके पास ज़रूर आएगी & तब वो रंभा से मुलाकात करेगा-अकेले मे.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

रात के 1 बजे विजयंत & सोनिया होटेल की 1 टोयोटा क़ुआलिसजसिके नंबर प्लेट्स बदल दिए गये थे,मे कंधार के लिए निकल पड़े.वो शख्स उंघ रहा था कि सामने से आती विजयंत की कार की हेडलाइट्स की रोशनी उसकी आँखो पे पड़ी .उसने आँखे खोली & बगल से गुज़रती कार के शीशे को दाए हाथ से चढ़ाता & बाए से स्टियरिंग संभाले उसे विजयंत दिखा.उसने फ़ौरन कार स्टार्ट की & उसके पीछे लग गया.1 मारुति आल्टो मे 2 सादी वर्दी के पोलीस वाले दोनो कार्स के पीछे लग गये.2 बजे तीनो गाड़ियाँ अपने पीछे लगी गाड़ी से अंजान कंधार पहुँची की विजयंत का मोबाइल बजा,"हेलो."

"कार वापास लो."

"क्या?"

"कार वापस लो.",फोन काट गया.विजयंत ने कार घुमाई तो वो शख्स & पोलीस वाले दोनो बौखला गये & उन्होने फ़ौरन अपनी-2 कार्स को घुमा के आगे बढ़ाया & तब उस शख्स ने आल्टो को देखा.उसने कार की रफ़्तार बहुत तेज़ की & पहाड़ी रास्ते के बिल्कुल किनारे ले जाते हुए अपनी कार से उस आल्टो को ओवर्टेक किया..हो ना हो ये पोलिसेवाले थे!

"सर,क्या करें अब?वो पीछा करने वाला शख्स भाग रहा है & विजयंत भी अब वापस जा रहा है?",सादी वर्दी वाला अफ़सर रज़ा को पल-2 की खबर दे रहा था.

"क्या?!तुम..तुम अभी मेहरा के पीछे लगे रहो.",तब तक आल्टो को दूसरे अफ़सर ने आगे बढ़े रास्ते के किनारे की झाड़ियो मे घुसा दिया था.2 पल बाद ही विजयंत की क़ुआलिस उनके बगल से उनकी मौजूदगी से अंजान वाहा से निकली,"..टीम सी कम इन.",रज़ा ने कंधार फॉल्स पे खड़ी अपनी टीम को तलब किया,"..मीटिंग वाहा नही हो रही है.तुमलोग जितना हो सके उतनी शांति से वाहा से निकलो आगे मैं बताता हू क्या करना है."

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:02 AM,
#44
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--44

गतान्क से आगे......

उस शख्स ने अपनी कार तेज़ी से वाहा से निकाली & 1 कच्ची सड़क दिखते ही उसे उसी पे उतार दिया & कुच्छ देर बाद उसे उसी रास्ते के किनारे की झाड़ियो मे तब तक अंदर घुसाया जब तक कि वो पेड़ो के झुर्मुट के बीच नही पहुँच गयी & वाहा से आगे जाना नामुमकिन हो गया.उसने कार को वही छ्चोड़ा & आगे बढ़ने लगा कि तभी उसे 1 साया दिखा & वो वही झाड़ियो मे बैठ गया.

"तुम्हे कच्ची सड़क दिख रही है?",विजयत का मोबाइल दोबारा बजा,"..उसी रास्ते पे आगे बढ़ो & अपनी कार को छ्चोड़ दो.",पोलीस की आल्टो थोड़ी पीछे थी & जब तक वो वाहा पहुँची तब तक उसी कच्चे रास्ते से 1 दूसरी क़ुआलिस जिसका नंबर भी क्प-0व-5214 था,बहुइत तेज़ी से वापस क्लेवर्त की ओर जाती दिखी.

"सर,वो वापस क्लेवर्त जा रहा है."

"ओके,उसके पीछे लगे रहो लेकिन उसे शक़ नही होना चाहिए.",रज़ा ने कंधार वाली टीम को भी उसी रास्ते पे आगे बढ़ने को कहा.विजयंत के मोबाइल पे 2 कॉल्स आई थी लेकिन जब तक उन्हे सुना जाता कॉल्स कट गयी थी.वो बस ये सुन पाया था की उस शख्स ने उसे कंधार से लौटने को कहा था,"जीप निकालो.",उसने तय कर लिया था कि अब उसे भी विजयंत के पीछे लगना था.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

"अपना मोबाइल बंद कर वही ज़मीन पे फेंक दो.",विजयंत & सोनिया कच्चे रास्ते पे पैदल बढ़ रहे थे जब उन्हे 1 आवाज़ सुनाई दी.वो शख्स वही झड़ी मे बैठा बोलने वाले साए को देख रहा था..कहा फँस गया था वो लेकिन अब किया क्या जा सकता था?

"आगे देखो,रास्ते के किनारे की झाड़ियो मे छ्होटा सा गॅप दिखेगा.उसी मे आगे बढ़ते जाओ दोनो.",विजयंत को अजीब लगा की जो भी था उसे सोनिया के आने पे ऐतराज़ नही हुआ था लेकिन वो उसके कहे मुताबिक आगे बढ़ता रहा.कोई 30 मिनिट अंधेरे मे झाड़ियो के बीच चलने के बाद वो दोनो फिर से कंधार पे पहुँच गये थे.कंधार का नाम कंधार इसलिए था क्यूकी वो धरधार जितना तेज़ बहने वाला झरना नही था लेकिन इसका मतलब ये नही था की उसकी रफ़्तार धीमी थी,उसकी रफ़्तार भी अच्छी ख़ासी थी.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

ब्रिज जिस वक़्त कंधार & धारदार जाने वाले रास्ते के शुरू मे पहुँचा ही था कि उसने सामने से तेज़ी से आती 1 क़ुआलिस को देखा.वो जब थोड़ा आगे बढ़ा तो उसे 1 आल्टो दिखी & कुच्छ गड़बड़ी के अंदेशे से उसने अपनी कार धीमी कर ली कि उसे वही 1 ढाबा दिखा.उसने कार झट से उसके सामने लगाई & वाहा सिगरेट खरीदने चला गया.सिगरेट सुलगाते हुए उसने 2 पोलीस जीप्स को उसी आल्टो के पीछे जाते देखा.कुच्छ पल इंतेज़ार करने के बाद वो अपनी कार मे बैठा & कंधार की ओर बढ़ गया.आज उसकी ज़िंदगी का बहुत अहम लम्हा उसके इंतेज़ार मे झरने पे खड़ा था.आज उसे पता चलने वाला था कि औरत भरोसे के लायक चीज़ है या नही.

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

"डॅड!",अंधेरे को चीरती 1 दर्द भरी आवाज़ गूँजी.

"समीर!",विजयंत जवाब मे चीखा & आवाज़ की दिशा मे आगे बढ़ा & झाड़ियो से निकलते ही आधे चाँद की हल्की,सफेद रोशनी मे रेलिंग्स के दूसरी तरफ अपने घुटनो पे बैठा उसे समीर दिखा.उसकी आँखो पे पट्टी बँधी थी & हाथ पीछे बँधे थे.विजयंत उसकी तरफ दौड़ा की 1 आवाज़ गूँजी.

"वही रूको,मेहरा.पहले ये बताओ की वो काग़ज़ लाए हो."

"हां.",सोन्या बहुत घबरा गयी थी & विजयंत के दाई तरफ उस से चिपकी खड़ी थी.

"आगे बढ़ो & वाहा बीच मे रखे पत्थर के नीचे उसे दबा दो & फिर वापस जाओ लड़की के पास.",विजयंत ने वैसा ही किया.जब वो काग़ज़ रख के लौटा तो सोनिया उस से बिल्कुल चिपक गयी.

"अब दोनो रेलिंग के पार जाओ & अपने बेटे को ले लो.",विजयंत का माथा ठनका,उसे काग़ज़ नही देखना है क्या?

"तुम्हे वो काग़ज़ नही देखना?",विजयंत मेहरा ने सवाल किया.

"वो मेरी परेशानी है,मेहरा.तुम अपने बेटे को सम्भालो.जाओ दोनो!"

"लड़की यही रहेगी,मैं अकेला जाऊँगा."

"तो फिर बेटे की लाश ले जाना यहा से."

"डॅड,क्या रंभा है आपके साथ?",समीर की कांपति आवाज़ आई.

"नही,तेरे बाप की यार है!"

"कामीने!",विजयंत गुस्से से चीखा.

"मेहरा,थोड़ी और देर करो & फिर सच मे बेटे की लाश ही मिलेगी तुम्हे.",सोनिया काफ़ी घबरा गयी थी.ये आवाज़ ब्रिज की नही थी & उसे अब बहुत डर लग रहा था.विजयंत ने उसकी बाँह थामी & आयेज बढ़ा.पहले विजयंत ने रेलिंग पार की & फिर सोनिया की मदद करने लगा.सोनिया रिलिंग से उतरते हुए लड़खड़ाई & विजयंत ने उसे बाहो मे थाम लिया.सोनिया ने अपनी बाहे उसकी गर्दन मे कस दी.

"मुझे बहुत डर लग रहा है,विजयंत."

"बस सब ठीक हो गया.अब वापस चलते हैं.",विजयंत ने उसकी पीठ थपथपाई & उसी वक़्त ब्रिज कोठारी वाहा पहुँचा & सामने का नज़ारा देख उसकी आँखो से अँगारे बरसने लगे.

"सोनिया!",वो चीखता हुआ उधर दौड़ा.विजयंत & सोनिया 1 दूसरे को थामे हैरत से उसे देख रहे थे.अगले पल ही वो रेलिंग पे था & विजयंत से गुत्थमगुत्था था.सोनिया चीख रही थी & दोनो को अलग करने की कोशिशें करती रो रही थी कि तभी उसके सर पे किसी ने वार किया.

-------------------------------------------------------------------------------

"उम्म्म्म..हूँ..प्रणव!..तुम यहा?!..आन्न्न्नह..!",प्रणव शिप्रा के सोने के बाद अपनी सास के बुंगले मे घुस आया था.बेख़बर सोती रीता को देखते हुए उसने अपने कपड़े उतारे & उसके पीछे बिस्तर मे घुस अपनी दाई बाँह उसकी कमर पे लपेट उसके दाए कान को काट लिया था.

"पागल हो तुम..उउफफफफ्फ़..",प्रणव का हाथ सास की नाइटी मे घुस गया था & उसके पेट को सहलाने के बाद उसकी चूचियों को दबाने लगा था.उसके होंठ रीता के चेहरे पे हर जगह घूम रहे थे,"..शिप्रा को पता चल गया तो ग़ज़ब हो जाएगा..उउम्म्म्मम..!",उसने दामाद के लबो से अपने लब चिपकाते हुए उसके मुँह मे अपनी ज़ुबान घुसा दी.

"वो गहरी नींद मे सो रही है & उसे यही लग रहा है कि मैं स्टडी मे काम कर रहा हू.",प्रणव उसके निपल्स को मसल रहा था & उसका लंड रीता की गंद की दरार की लंबाई मे फँस गया था.रीता ने नाइटी के नीचे कुच्छ नही पहना था & प्रणव के हाथ उसके नाज़ुक अंगो से पूरी गर्मजोशी के साथ खिलवाड़ कर रहे थे.

"फिर भी..",प्रणव ने उसकी नाइटी को उपर खींचा तो रीता ने हाथ उठा दिए ताकि वो आसानी से निकल जाए,"..ऐसे ख़तरा क्यू मोल लेते हो?..आहह..!",प्रणव उसकी दाए घुटने को आगे मोडते हुए उसकी चूत को नुमाया कर उसमे अपना तगड़ा लंड घुसा रहा था.

"क्यूकी आपसे मोहब्बत हो गयी है मुझे,मोम!",प्रणव उसे शिद्दत से चूमने लगा.रीता उसके आगोश मे क़ैद थी.प्रणव का दाया हाथ उसकी चूत के दाने से लेके चूचियो तक घूम रहा था & बाया हाथ जो उसकी गर्दन के नीचे दबा था उसके चेहरे को अपनी ओर घुमाए हुए था ताकि उसके रसीले लबो का स्वाद वो आसानी से चख सके,"..आहह..!"

"क्या हुआ?",रीता ने थोड़ी चिंता से दामाद को देखा.

"कुछ नही.आपकी चूत तो अभी भी बहुत कसी है,मों..ऊहह..आप तो शिप्रा की बड़ी बेहन से ज़्यादा नही लगती!"

"आन्न्न्नह..झूठे!",रीता का दिल तारीफ से खुशी से झूम उठा था & उसने बनावटी गुस्सा दिखाते हुए दामाद के बाए गाल पे काटा.

"सच कहता हू,मोम.आपके रूप का दीवाना हो अगया हू मैं.अब तो आपके बिना जीने की सोच भी नही सकता!",उसके धक्को & उसकी उंगली की रगड़ ने उसकी सास को झाड़वा दिया था.

"आन्न्न्नह..मैं भी तुम्हारे बिना नही रह सकती,प्रणव..आइ लव यू,डार्लिंग!",प्रणव ने उठके उसकी बाई जाँघ को उठाया & फिर घुटने हुए उसके उपर आ गया.मस्ती मे चूर रीता ने उसे बाहो मे भर लिया & उसके धक्को का जवाब कमर उचका-2 के देने लगी.

"1 बात पुच्छू,मोम?"

"पुछो ना,प्रणव?",रीता ने बाया हाथ उसके चेहरे पे प्यार से फिराया & दाए से उसकी गंद को टटोला.

"अगर मैं कंपनी के लिए कोई फ़ैसला लेता हू लेकिन डॅड को वो पसंद नही & बात अगर वोटिंग तक पहुँची तो आप क्या करेंगी?",प्रणव ने उसकी चूचिया मसली & गर्दन को चूमने लगा.

"तुम्हारे दिमाग़ मे क्या है प्रणव?",रीता दामाद के सवाल से थोड़ा सोच मे पड़ गयी थी.

"अभी कुच्छ नही लेकिन मैं कंपनी के भले के लिए कुच्छ सोच रहा था?"

"क्या?"

"1 आदमी है महादेव शाह जोकि हमारे ग्रूप मे पैसा लगाने को तैयार है.डॅड उसे मना कर चुके हैं लेकिन मुझे लगता है कि हम उसे अपने ग्रूप मे इनवेस्ट करके बहुत मुनाफ़ा कमा सकते हैं."

"हूँ.....ऊव्वववव..कितने बेसबरे हो?थोड़ा आराम से करो ना!..हाईईईईईई..!",रीता ने दामाद की गंद पे चिकोटी काटी तो उसके धक्के & तेज़ हो गये.

"आप इतनी हसीन,इतनी मस्त क्यू हैं कि मैं खुद पे काबू ही नही रख पाता..आहह..!",धक्को की तेज़ी को रीता बर्दाश्त नही कर पाई & उचक के प्रणव की गर्दन थाम उसे पागलो की तरह चूमने लगी.उसकी कमर भी हिल रही थी & जिस्म थरथरा रहा था.वो झाड़ रही थी & उसकी चूत मे उसे प्रणव के गाढ़े वीर्य की पिचकारियाँ छूटती महसूस हो रही थी.

"आपने मेरे सवाल का जवाब नही दिया.",प्राणवा उसकी चूचियो पे सर रखे लेटा था & वो उसके बाल सहला रही थी.

"मुझे ज़रा तफ़सील से सब बताना,उस शाह के बारे मे भी & उसके प्रपोज़ल के बारे मे भी फिर मैं फ़ैसला करूँगी..इतना यकीन रखो प्रणव की अगर उसका प्रपोज़ल ज़रा भी ठीक लगा & बात वोटिंग तक पहुँची तो मैं तुम्हारे हक़ मे ही अपना वोट दूँगी."

"ओह,मोम.आइ लव यू!",प्रणव उसकी चूत मे पल-2 सिकुड़ता लंड डाले उठके उसके होंठ चूमने लगा तो रीता ने भी उसकी गर्दन मे बाहे डाल दी.तभी उसका मोबाइल बजा.

"हेलो..क्या?",रीता के चेहरे का रंग बात सुनते हुए बदलता जा रहा था,"..लेकिन कैसे..मुझे समझ नही आ रहा..",उसके हाथ से फोन छूट बिस्तर पे गिर गया.

"क्या हुआ मोम?!..बोलिए ना!",प्रणव ने उसे झकझोरा.

"समीर मिल गया,प्रणव..",कुच्छ पल बाद रीता बोली,"..लेकिन.."

"लेकिन क्या?"

"लेकिन..विजयंत..विजयंत..",रीता की आँखे छल्कि & फिर उसकी रुलाई छूट गयी.प्रणव ने फ़ौरन उसके उपर से उठते हुए उसकी बगल मे लेट उसे अपने आगोश मे भर लिया.

"मोम..प्लीज़ चुप हो जाइए..क्या हुआ डॅड को?..कहा है वो?..समीर कहा मिला?",वो उसे बाहो मे भरे उसके बाल & पीठ सहला रहा था.

"प्रणव..प्रणव..",प्रणव ने उसका चेहरा अपने दाए हाथ मे थाम लिया.

"हां मोम बोलिए!"

"प्रणव,विजयंत नही रहा..ही ईज़ डेड!"

पूरे मुल्क मे ये खबर जंगल की आग की तरह फैल गयी थी कि विजयंत मेहरा मारा गया है & उसके साथ ब्रिज कोठारी & उसकी बीवी सोनिया भी.मीडीया वाले गुड के आस-पास भीनभिनती मक्खियो की तरह कंधार फॉल्स,डेवाले मे मेहरा परिवार के बुंगले & ट्रस्ट ग्रूप के दफ़्तर के बाहर & आवंतिपुर के उस हॉस्पिटल जिसमे समीर भरती था,के बाहर जमा थे.

विजयंत ने शायद अपनी ज़िंदगी मे पहली बार अपना फ़ायदा ना सोचते हुए किसी & इंसान की परवाह करते हुए रात को झरने पे जाने से पहले बलबीर मोहन को कुच्छ नही बताया था वरना शायद इस वक़्त वो ब्रिज & सोनिया समेत ज़िंदा होता.बलबीर को इस बात का काफ़ी मलाल था कि जो काम उसने हाथ मे लिया था उसे वो सही तरीके से अंजाम तक ना पहुँचा सका.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:04 AM,
#45
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--46

गतान्क से आगे......

"लेकिन समीर तो पहले ऐसा नही था.",रंभा अपनी उंगलियो से खेल रही थी.

"शिप्रा भी पहले ऐसी नही थी लेकिन अब देखो..माना की मॉम का गम बहुत ज़्यादा है लेकिन मुझे तो वो भूल ही गयी है जैसे!"

"परेशान होगी वो भी."

"नही,हमेशा से ही ऐसे होता आया है.अभी मोम का बहाना है तो पहले कभी उसकी कोई पार्टी या फिर सहेली..हुंग!..मैं कब तक बर्दाश्त करू..आख़िर पति हू उसका मेरी भी उस से कुच्छ उमीदें हैं..",वो खामोश हो गया & फिर सामने देखते हुए बोला,"..कुच्छ ज़रूरतें है मेरी भी.",रंभा उसकी बात का मतलब समझ रही थी..यानी दोनो का गम 1 जैसा ही था.वो भी प्यासी थी & प्रणव भी.उसने थोड़ा सा चेहरा दाई तरफ घुमाया..प्रणव सजीला नौजवान था & जिस्म भी सुडोल था..अब विजयंत जैसी बात नही थी लेकिन अब उसके जैसा मर्द दूसरा मिलना शायद नामुमकिन था..ठीक उसी वक़्त प्रणव ने चेहरा घुमाया & दोनो की आँखे लड़ गयी & उसने शायदा रंभा की निगाहो को पढ़ भी लिया.रंभा ने झट से चेहरा घुमा लिया & उसी पल आसमान से बूंदे बरसने लगी.

"अरे..बारिश आ गयी!",रंभा उठके तेज़ी से बंगल की तरफ जाने लगी & प्रणव भी की उसका पैर फिसला.प्रणव उसके दाई तरफ ही था,उसने झट से बाई बाँह उसकी कमर मे डाल उसे थामा & दाए हाथ मे उसका दाया हाथ थाम उसे सहारा देके बंगल के दरवाज़े तक ले आया.तेज़ी से चलने & प्रणव के हाथो के एहसास ने रंभा की धड़कने तेज़ कर दी थी.उसके हसीन चेहरे & उपर-नीचे होते क्लीवेज पे बारिश के मोती चमक रहे थे.अब दोनो बारिश से भीग नही रहे थे लेकिन फिर भी प्रणव ने अपने हाथ उसके जिस्म से हटाए नही थे & रंभा को देखे जा रहा था.रंभा बेबाक लड़की थी लेकिन थी तो लड़की ही & प्रणव की निगाहो,जिनमे उसके साथ की हसरत सॉफ झलक रही थी,की तपिश से उसके गुलाबी गाल & सुर्ख होने लगे थे.

"मैं जाऊं..",थरथरते लबो से वो बस इतना ही कह पाई थी.

"क्यू?",रंभा ने बस उसकी निगाहो मे अपनी सवालिया निगाहो से देखा.

"मेरा साथ पसंद नही तुम्हे?",प्राणवा का हाथ उसकी कमर पे और कस गया था & उसका चेहरा रंभा के दाए गाल के & नज़दीक आ गया था.आसमान मे बिजली काड्की & उसकी चमक मे रंभा ने प्रणव के चेहरे को देखा.ये वो पल था जब उसे फ़ैसला लेना था.1 कदम आगे बढ़ाके बंगल की दहलीज़ के अंदर होती & दोनो का रिश्ता शुरू होने से पहले ही ख़त्म हो जाता & अगर वही खड़े हुए बस अपना सर उसके सीने पे झुका देती तो..तो उसे इस परिवार मे अपने ससुर के जाने के बाद 1 और सहारा मिल जाता.समीर की बदली रंगत देख अब उसे प्रणव को अपना साथी बना लेना ठीक लगा & उसने अपना सर दाई तरफ झुका उसके सीने पे रख दिया.

प्रणव ने रंभा के दाए हाथ को थामे हुए ही अपने दाए हाथ से उसकी ठुड्डी उपर की & उसके उपर झुकने लगा.रंभा की साँसे और तेज़ हो गयी.प्रणव की गर्म साँसे वो अपने चेहरे पे महसूस कर रही थी & उसका दिल बहुत ज़ोरो से धड़क रहा था.प्रणव & झुका & उसके नर्म लबो पे सटी पानी की बूँदो को अपने होंठो से हौले से सॉफ किया.रंभा सिहर उठी उस नाज़ुक च्छुअन से.प्रणव के होंठ उसके लबो को सहला रहे थे,उसकी आँखे बंद हो गयी थी & वो बस उस रोमानी लम्हे मे खोए जा रही थी.

प्रणव अब बहुत धीमे से उसके होंठो को चूम रहा था.उसके लब उसकी हर्कतो से कांप रहे थे & जब प्रणव ने किस की शिद्दत बढ़ते हुए उसके होंठो को अपने होंठो की गिरफ़्त मे लिया तो सिले लबो से भी उसकी आह निकल गयी & वो थोड़ा सा उसकी तरफ़ा घूम गयी.प्रणव ने उसके दाए हाथ को छ्चोड़ा & अपने दाए हाथ को भी उसकी कमर मे डाल उसे अपने आगोश मे भर लिया.रंभा के हाथ भी उसके सीने से आ लगे & जब प्रणव के लबो ने उसके लेबो के पार जाने की इजाज़त माँगी तो उसने शरमाते हुए अपने लब बहुत थोड़े से खोल दिए.

प्रणव की ज़ुबान उस ज़रा सी दरार से उसके मुँह मे घुसी & उसकी बेसबरा ज़ुबान से टकराई & उसके बाद रंभा की सारी झिझक ख़त्म हो गयी.उसने अपने इस नये प्रेमी के गले मे बाहें डाल दी & पूरी शिद्दत एक्स आठ उसकी किस का जवाब देने लगी.प्रणव ने उसकी कमर को कसते हुए उसे खुद से ऐसे चिपका लिया की उसकी छातियाँ प्रणव के सीने से पिस गयी & उसका लंड उसके पेट पे दब गया.रंभा उन एहसासो से & मस्त हो गयी & प्रणव के बालो को खींचते हुए उसकी ज़ुबान को चूसने लगी.

प्रणव ने उसे पीछे धकेल के बंगल दरवाज़े की बगल की दीवार से लगा दिया & अपने जिस्म को उसके जिस्म पे दबाते हुए बहुत ज़ोर से चूमने लगा.उसके हाथ रंभा की कमर & पीठ को अपनी बेताबी से जला रहे थे.प्रणव का दाया हाथ नीचे गया & उसने रंभा की जाँघ पकड़ के उपर उठाई & ठीक उसी वक़्त ज़ोर से बिजली काड्की.

"नही!",रंभा उस आवाज़ & रोशनी से जैसे होश मे आई & प्रणव को परे धकेल दिया.दीवार से लगी वो बहुत ज़ोर से साँसे ले रही थी,"..ये ठीक नही!"

"क्या ठीक नही?",प्रणव उसके करीब आया & उसके चेहरे को दाए हाथ मे थामा & बाए हाथ की उंगली उसके दाए चेहरे पे बाई तरफ माथे से लेके बाए गाल से होते हुए ठुड्डी तक फिराई,"..कि हम दोनो ज़ख़्मी दिल 1 दूसरे को मरहम लगा रहे हैं..जब हमारे हमसफ़र हमारे दर्द की परवाह नही कर रहे तो हमे हक़ नही खुद उस दर्द को दूर करने का?!",समीर की आँखो मे चाहत के शोले चमक रहे थे.उसकी उंगली रंभा के लाबो से जा लगी थी & रंभा ने मस्ती मे आँखे बंद कर ली थी,"..जवाब दो,रंभा क्या ठीक नही है?"

"ओह!प्रणव..",रंभा ने उसे बाहो मे खींचा & चूमने लगी,"..लेकिन किसी को पता चल गया तो?",सवाल पुच्छ वो दोबारा उसे बाहो मे बार चूमने लगी.

"मैंहू ना!किसी को कभी कुच्छ पता नही चलेगा!",उसने उसे आगोश मे भरते हुए उसकी गर्दन पे चूमा,"आइ लव यू,रंभा!"

"आइ लव यू टू,प्रणव!",काफ़ी देर तक दोनो 1 दूसरे से लिपटे अपने प्यार का इज़हार अपने हाथो & लबो से करते रहे,"..अब जाओ."

"प्लीज़!",समीर ने बाहो से छिटकी रंभा को रोकना चाहा.

"नही,अभी नही.यहा बहुत ख़तरा है.प्लीज़,प्रणव जाओ!",वो आगे हुई & 1 आख़िरी बार अपने इस नये-नवेले प्रेमी के लब चूमे और उसे जाने को कहा.

"ओके.",प्रणव ने उसके माथे को चूमा & वाहा से चल गया.उसकी पीठ रंभा की तरफ थी & वो उसकी मुस्कान नही देख सकती थी.कल वसीयत पढ़ी जानी थी & उसे पूरा यकीन था कि विजयंत मेहरा ने अपने शेर्स अपने बेटे के नाम छ्चोड़े होंगे लेकिन बेटे की बीवी अब उसके जाल मे थी.उसे कंपनी पे हुकूमत का चस्का लग गया था & वो उस स्वाद को अब थोड़ा महसूस करना चाहता था.

रंभा ने दरवाजा बंद किया & सीढ़ियाँ चढ़ उपर अपने कमरे मे गयी.समीर वैसे ही बेख़बर सो रहा था.रंभा ने अपने कपड़े उतरे & बाथरूम मे घुस गयी.प्रणव की हर्कतो ने उसके जिस्म की आग को और भड़का दिया था.वो बाथरूम के ठंडे फर्श पे लेट गयी & अपने हाथो से अपने जिस्म को समझाने लगी.

"मिस्टर.विजयंत मेहरा के ट्रस्ट ग्रूप के सारे शेर्स उनके बेटे समीर मेहरा को जाते हैं..",सवेरे वसीयत पढ़ते वकील के यही लफ्ज़ अभी रात तक प्रणव के दिमाग़ मे गूँज रहे थे.

"ये लो..",महादेव शाह ने स्कॉच का ग्लास प्रणव की ओर बढ़ाया,"..हमारी पार्ट्नरशिप के नाम,जो शुरू होने से पहले ही ख़त्म हो गयी.",उसने जाम उपर उठाया.प्रणव की आँखें गुस्से & दर्द से लाल थी.उसने ग्लास उठाया & कुच्छ पल शराब को देखता रहा फिर उसे सामने की दीवार पे दे मारा.

"काँच के ग्लास पे गुस्सा उतारने से क्या हासिल होगा बर्खुरदार?",शाह वैसे ही बैठा पी रहा था.

"फ़िक्र मत करिए शाह साहब.हमारी पार्ट्नरशिप ज़रूर होगी."

"लेकिन कैसे?अभी-2 तुम ही ने कहा कि समीर भी बाप के जैसे ही सोच रहा है & उसे भी किसी बाहर के शख्स पे कंपनी मे इनवेस्टमेंट के लिए भरोसा नही!",शाह तल्खी से बोला.

"ये समीर कह रहा है लेकिन अगर समीर की जगह कंपनी का मालिक कोई & हो जाए तो?"

"कोई &..",शाह ने सोचते हुए अपनी ठुड्डी खुज़ाई,"..मसलन?"

"मसलन कोई भी..रीता मेहरा,शिप्रा मेहरा या फिर रंभा मेहरा.",शाह कुच्छ पल उसे देखता रहा & फिर दोनो के ठहाको से शाह का ड्रॉयिंग हॉल गूँज उठा.

-------------------------------------------------------------------------------

सोनम ने कयि दिनो बाद राहत की सांस ली थी.क्लेवर्त मे हुए हादसे के बाद उसके तो होश ही उड़ गये थे & वो बहुत घबरा गयी थी कि कही पोलीस की तहकीकात से ब्रिज & उसके ताल्लुक का राज़ ना खुल जाए.उसने सबसे पहले उस फोन को,जो उसे ब्रिज ने दिया था & जिसे वो बस उस से बात करने के लिए इस्तेमाल करती थी,उसे तोड़ा & उसके सिम कार्ड को भी तोड़ शहर के बड़े नाले मे डाल आई.ब्रिज ने उसे अभी तक कोई पैसे तो दिए नही थे तो उस बात की चिंता उसे थी नही.

अगले कुच्छ दिन तो उसका फोन बजता तो उसे यही लगता कि पोलीस का होगा लेकिन जैसे-2 दिन बीते उसका डर कम होता गया & सबसे अच्छी बात तो ये हुई कि प्रणव की जगह ग्रूप की कमान अब समीर के हाथो मे थी.उसने इस बीच रंभा से 1 बार मुलाकात की थी लेकिन उसे प्रणव के इरादो के बारे मे बताने की हिम्मत उसे तब भी नही हुई.अब समीर के लौटने के बाद उसने उस बात के बारे मे सोचना छ्चोड़ भी दिया था.

अब तो उसे लगने लगा था कि ब्रिज का मारना 1 तरह से उसके लिए अच्छी ही बात थी.अब उसे किसीसे तरह का कोई डर नही था & उसे 1 सीख भी मिली थी कि आगे से वो अपने फ़ायदे के लिए ऐसे खेल ना खेले जो ख़तरो से भरे होते थे.

-------------------------------------------------------------------------------

"कल दोपहर 12 बजे मिलना मुझे इस पते पे.",रंभा अपने बंगल की दीवार से सटी थी & प्रणव उसकी कमर सहलाते हुए उसे चूम रहा था.उसने 1 काग़ज़ का टुकड़ा & 1 चाभी अपने कुर्ते की जेब से निकाले & उसकी ब्रा मे अटका दिए.समीर अगले ही दिन पूरे मुल्क मे फैले अपने दफ़्तरो & प्रॉजेक्ट्स के दौरे पे निकल रहा था & दोनो प्रेमियो को मिलने का मौका मिल गया था.

"ठीक है.अब जाओ.",रंभा ने उसे परे धकेला & अपने बंगल के अंदर घुस गयी.

"रंभा!",प्रणव फुसफुसाया.

"कल.",रंभा ने दरवाज़ा बंद करते हुए उसे मुस्कुरा के देखा & फिर उपर अपने कमरे मे चली गयी.समीर बेख़बर सो रहा था,रंभा ने सोचा कि उसे जगाए मगर फिर उसे पिच्छली 2 रातो की कहानी याद आई & उसने अपना इरादा बदल दिया & बिस्तर पे लेट अपने हाथो से अपने जिस्म से खेलने लगी.

-------------------------------------------------------------------------------

1 अपार्टमेंट बिल्डिंग के 11वे माले के फ्लॅट मे उसे प्रणव ने बुलाया था.रंभा तय वक़्त से थोड़ा पहले ही पहुँच गयी थी.प्रणव को दफ़्तर & बीवी से झूठ बोल कर उस से मिलना था लेकिन उसे ऐसी कोई उलझन नही थी.सास & ननद ने उस से रिश्ता ना के बराबर ही रखा था & पति अभी शहर मे था नही.

रंभा ने आसमानी रंग की सारी & ब्लाउस पहना था लेकिन अपने इस नये प्रेमी को रिझाने मे वो कोई कसर नही छ्चोड़ना चाहती थी.उसने फ्लॅट के बेडरूम मे रखे ड्रेसिंग टेबल के शीशे मे देखते हुए अपना आँचल अपने सीने से गिराया & अपने ब्लाउस को उतार दिया.आसमानी रंग के स्ट्रेप्लेस्स ब्रा मे क़ैद उसकी चूचियाँ शीशे मे चमक उठी.हाथ पीछे ले जाके उसने ब्रा को खोला & उसकी चूचिया खुली हवा मे सांस लेने लगी.

रंभा ने बिस्तर से साथ लाया 1 पॅकेट उठाया & उसमे से चाँदी के रंग का चमकता ब्लाउस निकाला जोकि स्ट्रेप्लेस्स ट्यूब टॉप की शक्ल मे था & उसे पहन लिया.अब उसके गोरे कंधे & सीने के उपर का हिस्सा खुला हुआ था.उसने आँचल को वापस सीने पे डाला & अपने खुले बालो को सामने अपनी बाई चूची के उपर कर लिया.

"ज़्यादा देखोगी तो कही शीशे मे जान ना आ जाए & वो तुम्हे बाहो मे ना भर ले.",रंभा चौंक के मूडी तो देखा प्रणव कमरे की दहलीज पे खड़ा था.कुच्छ शर्म,कुच्छ तारीफ की खुशी से आई मुस्कान उसके होंठो पे खेलने लगी.प्रणव आगे बढ़ा & उसकी गुदाज़ उपरी बाहें थाम उसे अपनी ओर खींचा तो रंभा ने उसे हंसते हुए परे धकेला.

"किस लिए बुलाया है मुझे यहा?",वो शोखी से उसे देख रही थी.

"तुम्हारी इबादत करने के लिए.",प्रणव ने दोबारा वही हरकते दोहराई & रंभा के बाए गाल पे चूम लिया.

"ये इबादत है!",रंभा अपने चेहरे को घुमा उसे अपने सुर्ख लबो से महरूम रखा,"..तुम तो काफिरो जैसी हरकतें कर रहे हो..उउम्म्म्म..!",प्रणव ने उसके लब चूमने मे कामयाबी हासिल कर ही ली थी.

"आशिक़ तो ऐसे ही अपने महबूब को पूजते हैं.",1 पल को होंठ जुदा कर उसने रंभा की काली आँखो मे झाँका & इस बार जब उसके होंठ झुके तो रंभा ने अपने होंठ खोल उसकी ज़ुबान से अपनी ज़ुबान लड़ा दी & अपनी बाहे उसके गले मे डाल दी.

"छ्चोड़ो..",रंभा ने कुच्छ देर बाद किस तोड़ी & उदास सी सूरत बना प्रणव की तरफ पीठ कर ली,"..शुरू मे सब ऐसी ही बाते करते हैं फिर किसी वीरान जंगल मे पड़ी पत्थर मूरत की तरह छ्चोड़ देते हैं जिसकी इबादत तो दूर किसी को उसका ख़याल भी नही रहता.",रंभा प्रणव को ये कतई नही पता चलने देना चाहती थी कि वो चुदाई कि दीवानी 1 गर्मजोशी से भरी लड़की है जोकि अपने फ़ायदे के लिए किसी भी मर्द के साथ सोने से नही झिझकति थी.उसके सामने तो उसे 1 बेबस बीवी की तस्वीर पेश करनी थी जिसका पति उस से बेरूख़् हो गया है.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:04 AM,
#46
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--47

गतान्क से आगे......

"ये पुजारी अपनी इस हुस्न & इश्क़ की देवी की मरते दम तक पूजा करेगा & जिस दिन अपने इस वादे को तोड़े वो उसका इस धरती पे आख़िरी दिन होगा.",पीछे से आ उसके बाए कंधे पे बाया हाथ रख & दाए से उसके चेहरे को अपनी ओर घुमा के प्रणव ने उसकी आँखो मे झाँका तो रंभा तेज़ी से घूमी & उसकी कमर मे बाहे डाल,उसके गले से लग गयी.दोनो के हाथ 1 दूसरे की पीठ पे घूम रहे थे.प्रणव का लंड तो रंभा की नंगी कमर की चिकनाई महसूस करते ही खड़ा हो गया था.दोनो का कद लगभग बराबर था & उसका लंड सीधा रंभा की चूत पे दबा था.

रंभा की चूत भी लंड को महसूस करते ही कसमसाने लगी थी.प्रणव ने अपना सर रंभा के बाए कंधे से उठाया तो उसने भी चेहरा उसके सामने कर दिया & दोनो 1 बार फिर पूरी शिद्दत के साथ 1 दूसरे को चूमने लगे.प्रणव के हाथ उसकी कमर से लेके कंधो तक घूम रहे थे & रंभा अब मस्त हो रही थी.वो भी प्रणव के जिस्म की बगलो पे अपने हाथ हसरत से फिरा रही थी.

दोनो काफ़ी देर तक 1 दूसरे की ज़ुबानो को चूस्ते हुए उनसे खेलते रहे.प्रणव का जोश और बढ़ा तो उसने रंभा की गंद हल्के से दबा दी तो वो चिहुनक उठी & उसे बनावटी गुस्से से देखते हुए किस तोड़ दी.प्रणव की नज़रो मे अब वासना के लाल डोरे तैरने लगे थे.उसने डाए हाथ से रंभा के बाए कंधे से उसका पल्लू सरका दिया.रंभा ने उसे पकड़ने की कोशिश की लेकिन तब तक पल्लू फर्श को चूम रहा था.उसने बनावटी हया से अपना चेहरा बाई तरफ घुमा लिया.

मस्ती से उसकी साँसे तेज़ हो गयी थी & तेज़ साँसे उसके सीने मे जो हुलचूल मचा रही थी,उसे देख प्रणव का हलक सूख गया & उसने थूक गटकते हुए अपने होंठो पे ज़ुबान फिराई.ऐसी हसीन-ओ-दिलकश लड़की आजतक उसने नही देखी थी.उसने दाए हाथ को उसके कंधे से सरकते हुए उसके बाए गाल पे किया & उसका चेहरा फिर से अपनी ओर घुमाया तो रंभा ने आँखे बंद कर ली.मस्ती से तमतमाए गाल & बंद आँखे हया की तस्वीर पेश कर रहे थे & प्रणव के जोश को & बढ़ा रहे थे.

प्रणव ने अपना हाथ उसके बाए गाल से सटा दिया तो रंभा आँखे बंद किए हुए ही,उस तरफ चेहरे को थोड़ा झुका के उसके हाथ पे अपने गाल को हौले-2 रगड़ने लगी.प्रणव की निगाहें उसके चेहरे से लेके उसके सीने & पेट से नीचे उसके पाँवो तक गयी & फिर उपर आई.वो आगे बढ़ा & अपने होंठ रंभा की गर्दन पे दाई तरफ लगा दिए.उसके होंठ उसके ब्लाउस के उपर के नुमाया हिस्से पे घूमने लगे.

रंभा ने उसके अपने गाल पे रखे हाथ कि हथेली से अपने होंठ सटा दिए & चूमने लगी.प्रणव का बाया हाथ उसकी कमर से आ लगा & उसे सहलाने लगा.रंभा अब हल्की-2 आहे भर रही थी.प्रणव ने उसकी कमर को बाई बाँह मे कसते हुए उसके चेहरे को थामा & उसकी गर्दन चूमते हुए उसे घुमा के बिस्तर पे गिरा दिया.

रंभा की टाँगे लटकी थी & उसके उपर चढ़ा प्रणव उसके चेहरे को चूमे जा रहा था.कुच्छ देर बाद वो उठा & उसने उसकी टाँगे पकड़ के बिस्तर के उपर कर दी.ऐसा करने से रंभा की सारी थोड़ा उठ गयी & उसकी गोरी टाँगे दिखने लगी.प्रणव ने उन्हे देखा तो उन्हे पकड़ के उसके पैर चूमने लगा.रंभा बिस्तर पे घूम के पेट के बल लेट गयी & तकिये को पकड़ के प्रणव के होंठो का लुत्फ़ उठाने लगी.

प्रणव के हाथ उसकी सारी को घुटने तक करने के बाद उसकी टाँगो को सहला रहे थे & उसके होंठ उसके हाथो के बताए रास्ते पे घूम रहे थे.रंभा ने खुशी & मस्ती से मुस्कुराते हुए तकिये मे मुँह च्छूपा लिया क्यूकी प्रणव का हाथ उसकी सारी मे & उपर घुस उसकी जाँघो के पिच्छले मांसल हिस्से को दबा रहा था.कुच्छ पल बाद उसकी सारी उसकी कमर तक थी & उसकी आसमानी रंग की पॅंटी नुमाया हो गयी जिसके बीचोबीच 1 गीला धब्बा उसकी चूत की कसक की दास्तान कहता दिख रहा था.

"उउन्न्ह..आन्न्न्नह..!",प्रणव उसकी जाँघो को चूम & चूस रहा था & रंभा की आहें धीरे-2 तेज़ हो रही थी.उसकी जाँघो को चूमते हुए प्रणव उसकी कमर पे आया & उसे भी अपने होंठो से तपाने के बाद उसकी पीठ से होता उसके चेहरे तक पहुँच गया.रंभा के रसीले लबो से उसका जी भर ही नही रहा था.उसने उसके दाए कंधे को पकड़ थोड़ा घुमाया & उसके होंठ चूमने लगा तो रंभा ने भी दाए हाथ को पीछे ले जाके उसके बालो को पकड़ लिया & अपने होंठो से जवाब देने लगी.

प्रणव का दाया हाथ उसके पेट पे चला गया था & उसे सहला रहा था.उसकी उंगलिया उसकी गहरी नाभि की गहराई से बाहर आना ही नही चाह रही थी.उसके होंठ 1 बार फिर से रंभा की गोरी गर्दन पे घूम रहे थे.चूत की कसक & बढ़ी तो रंभा ने गंद पीछे कर अपने प्रेमी के लंड से उसे सटा दिया.प्रणव समझ गया कि उसकी महबूबा अब पूरी तरह से मस्त हो चुकी है.उसने फ़ौरन उसके कंधे पकड़ उसे सीधा किया & उसके हाथो को अपनी कमीज़ पे रख दिया.उसका इशारा समझ रंभा ने उसके बटन्स खोले & उसकी कमीज़ उतार दी.

प्रणव के बालो भरे सीने को देख उसका दिल खुशी से झूम उठा & उसने अपने हसरत भरे बेसब्र हाथ उन बालो मे फिराए & फिर अपनी इस थोड़ी बेबाक हरकत पे शरमाने का नाटक करते हुए हाथ पीछे खींच अपने चेहरे को उनमे च्छूपा लिया.प्रणव उसकी इस अदा पे और खुशी & जीश से भर गया & उसने उसके पेट पे उंगली फिरानी शुरू कर दी.

"ऊन्नह..नही करो..गुदगुदी होती है..!",हाथो के पीछे से ही रंभा बोली तो प्रणव ने हंसते हुए उँघली को उसकी सारी मे घुसा उसे कमर से खींच दिया,"..नही..!",हाथ चेहरे से हटा उसपे फैली मस्ती अपने प्रेमी को दिखाते हुए रंभा ने उसका हाथ पकड़ लिया लेकिन प्रणव ने उसकी अनसुनी करते हुए उसकी सारी खोल दी & फिर पेटिकोट भी.उसने अपनी दाई बाँह रंभा की जाँघो के नीचे लगा के उन्हे उपर उठाया & फिर अपने गर्म होंठ उनसे चिपका दिए.जोश से कसमसाती रंभा कभी उसके बॉल खींच तो कभी उसके हाथो को पकड़ उसे अपने जिस्म से अलग करने की कोशिस कर रही थी लेकिन प्रणव वैसे ही उसकी जाँघो से चिपका हुआ था.

"ओईईईईई..माआाआअन्न्‍नणणन्..!",रंभा का जिस्म झटके खाने लगा & वो मस्ती मे सर दाए-बाए हिलाने लगी.प्रणव ने पॅंटी के उपर से ही उसकी चूत को चूमना शुरू कर दिया था & वो उसकी इस हरकत को बर्दाश्त नही कर पाई थी & झाड़ गयी थी.प्रणव ने फ़ौरन उसकी पॅंटी नीचे खींची & उसकी चूत से बहते रस को पीने लगा.रंभा उसके बाल नोचती वैसे ही कांपति पड़ी थी.

जब प्रणव ने अपना चेहरा उसकी चूत से उठाया तो वो करवट ले फिर से तकिये मे मुँह च्छूपाते हुए पेट के बल हो गयी.प्रणव की हालत जोश से और बुरी हो गई क्यूकी अब उसकी आँखो के सामने रंभा की पुष्ट,क़ातिल गंद थी.उसने उसकी फांको को बड़े हौल्के से च्छुआ.रंभा के जिस्म मे थरथराहट सी हुई & वो फिर से घूमने की कोशिश करने लगी मगर तब तक उसका प्रेमी उसके पिच्छले उभारो पे झुक,उनके बीच की डरा मे अपनी नाक घुसा के अपना चेहरा वाहा दफ़्न करने की कोशिश कर रहा था.

रंभा ने तकिये को खीच अपने सीने के नीचे किया & अपनी चूचियाँ उसपे दबाते हुए सर उठाके ज़ोर-2 से आहें लेने लगी.प्रणव ने उसकी फांको को भींचा & उन्हे काटने लगा.रंभा दर्द & मस्ती के मिले-जुले एहसास से मुस्कुरा उठी & उसकी आहें & तेज़ हो गयी.

"नाआआअ..हाईईईईईईईईईईईईईईई..!",प्रणव की ज़ुबान उसके गंद के छेद को छेड़ने लगी थी & रंभा की हालत बुरी हो गयी थी.उसने दाया हाथ पीछे ले जाते हुए प्रणव के बॉल पकड़ उसके सर को उपर खींचा & करवट ले सीधी हो गयी.प्रणव ने वासना भरी मुस्कान उसकी तरफ फेंकी & बिस्तर पे खड़े हो पॅंट उतार नंगा हो गया.उसके 8.5 इंच के लंड को देख रंभा का दिल खुशी से नाच उठा लेकिन उसने मस्ती से बोझल पॅल्को को बंद कर उसे अपने शर्म मे डूबे होने का एहसास कराया.

नंगा प्रणव उसके दाई तरफ लेटा & उसे बाई करवट पे अपनी तरफ घुमा उसकी कमर सहलाते हुए चूमने लगा.उसका लंड भी उसकी चूत को चूम रहा था.रांभे ने अब अपने को पूरी तरह से अपने आशिक़ के हाथो मे सौंप दिया था.उसके सीने के बालो मे हाथ फिराते हुए उसने भी उसे बाहो मे भर लिया था.प्रणव ने उसके बाए कंधे के उपर से देखते हुए उसके ब्लाउस को खोला & जैसे ही उसकी चूचियाँ नुमाया हुई वो उनपे टूट पड़ा.उन मस्त गोलाईयों को अपने मुँह मे भर के वो उन्हे चूसने लगा.हाथो मे उन्हे भर वो उन्हे ज़ोर से दबाता & जब रंभा आहे भरते हुए जिस्म को उपर मोडती तो वो उसके निपल्स को चूसने लगता. छातियों को चाटते हुए जब उसने उसके निपल्स को उंगलियो मे मसला तो रंभा ज़ोर से चीखते हुए दोबारा झाड़ गयी.

अब वक़्त आ गया था दोनो जिस्मो के 1 होने का & उनके रिश्ते को जिस्मानी बंधन मे बाँधने का.प्रणव ने उसकी टाँगे फैलाई & उनके बीच घुटने पे बैठके अपना लंड अंदर घुसाया,"ऊव्ववव..दर्द हो रहा है..थोड़ा धीरे करो ना..आन्न्न्नह..!",सच्चाई तो ये थी कि विजयंत के बाद उसे अब कोई भी लंड दर्द पहुचने वाला नही लगता था लेकिन ऐसी हरकत कर वो प्रणव के मर्दाना अहम को सहला उसे और जोश मे भर देना चाहती थी.

"बस हो गया,मेरी जान..आहह..!",चूत की कसावट ने तो प्रणव को हैरत मे डाल दिया.ऐसा लग रहा था मानो वो कोई कुँवारी चूत चोद के उसका कुँवारापन लूट रहा हो.मस्ती मे भर उसने ज़ोर का धक्का लगाया.

"हाईईईईईईईई..रामम्म्मममममममम..कितने ज़ल्म हो..ऊन्न्‍न्णनह..!",प्रणव उसके उपर लेट आ गया था & उसके चेहरे को चूमते हुए उसे चोद रहा था.कुच्छ देर बाद रंभा के हाथ भी उसकी पीठ पे फिरने लगे & जब उसने उसकी गंद को दबाया तो उसके धक्के & तेज़ हो गये. दोनो अब 1 दूसरे को पूरी शिद्दत से चूमते हुए चुदाई कर रहे थे.रंभा कयि दिनो बाद ऐसे मस्त तरीके से चुद रही थी.विजयंत के जाने के बाद ये पहला मौका था जब कोई मर्द उसे इस तरह से मस्ती के आसमान मे उड़ा रहा था.प्रणव के पास विजयंत जैसा लंड नही था ना ही वैसी मर्दाना खूबसूरती लेकिन था वो चुदाई मे माहिर.

पहले तो उसने बहुत गहरे धक्के लगाए जिनमे वो लंड को सूपदे तक खींच फिर जड तक अंदर धकेल्ता & उसके बाद जब रंभा झड़ने लगी तो उसने चुदाई की रफ़्तार अचानक बहुत बढ़ा दी जिसमे लंड बस आधा ही बाहर आता था लेकिन चूत की दीवारो पे उसकी तेज़ रगड़ रंभा के जोश को & बढ़ा देती थी.

रंभा ने प्रणव की पीठ को अपने नखुनो से छल्नी कर दिया था लेकिन वो था कि झड़ने का नाम ही नही ले रहा था.प्रणव के लिए ये बहुत मुश्किल काम था.रंभा की कसी चूत झाड़ते वक़्त जब उसके लंड के गिर्द सिकुड़ने-फैलने लगती तो वो अपना काबू लगभग खो ही देता लेकिन वो इस पहली चुदाई मे ही अपनी इस नयी-नवेली महबूबा पे अपनी मर्दानगी की मज़बूत छाप छ्चोड़ना चाहता था.

"हाईईईईईईईई..राम............प्रणव......ज़ाआआअन्न्‍ननननणणन्..ऐसे कभी नही चुदी मैं........ऊहह..आन्न्‍नणणनह..चोदो मुझे.....हाआाआअन्न्‍ननणणन्..!",1 ज़ोर की चीख मारते हुए,उसके कंधो मे नाख़ून धँसाते हुएँ उसकी कमर पे टाँगे फँसा उचकते हुए वो जिस्म को कमान की तरह मोडते झाड़ गयी.उसके चेहरे को देख लगता था जैसे वो बहुत दर्द मे हो जबकि हक़ीक़त ये थी कि वो झड़ने की खुशी को पूरी शिद्दत से महसूस का रही थी.

फिर उसके चेहरे पे हल्की सी मुस्कान खेलने लगी-उसकी चूत मे उसके नये प्रेमी का लंड गर्म वीर्य छ्चोड़ रहा था & वो आहे भरता उसका उसके उपर लेट रहा था.रंभा ने उसे बाहो मे भरा & अपने बाए कंधे के उपर अपना चेहरा रखे प्रणव के सर को चूम लिया.

“मेरी मोहब्बत कबूल कर के तुमने मुझपे कितना बड़ा एहसान किया है,ये तुम्हे पता नही,रंभा.”,चुदाई के बाद प्रणव रंभा के दाई तरफ लेटा दाए हाथ से उसके बाए गाल को सहला रहा था.रंभा भी उसके सीने पे अपनी उंगलिया धीमे-2 घुमा रही थी.

“एहसान तो तुमने मुझपे किया है,प्रणव.सोचती हू तो सिहर जाती हू कि अगर तुम ना मिलते तो क्या करती..मैं तो पागल ही हो जाती!”,अजीब बात थी.दोनो ही 1 दूसरे को अपनी मोहब्बत के सच्ची होने का यकीन दिलाने के लिए झूठ बोल रहे थे.जहा प्रणव रंभा को अपने कंपनी के मालिक बनाने के मक़सद को पूरा करने के लिए इस्तेमाल करना चाहता था वही रंभा उसे अपनी जिस्मानी ज़रूरतो को पूरा करने का ज़रिया बना के मेहरा परिवार मे अपने 1 साथी के तौर पे इस्तेमाल करना चाहती थी.

प्रणव झुका & उसके होंठ चूमे तो रंभा ने भी उसके होंठो पे अपनी जीभ फिरा दी.प्रणव ने उसके बाए हाथ को थाम उसे अपने सिकुदे लंड पे दबाया तो रंभा ने फिर से शरमाने का नाटक करते हुए हाथ पीछे खींचा & अपना चेहरा थोड़ा आगे हो उसके सीने मे छुपा लिया.प्रणव मुस्कुराया & उसके जिस्म की बगल मे हाथ फेर दोबारा उसका हाथ थाम उसे अपने लंड पे दबाया.इस बार रंभा ने उसका लंड थाम लिया & उसे मसलने लगी.प्रणव जोश मे भर उसके बालो & गर्दन को चूमते हुए उसके जिस्म पे हाथ फेरने लगा.रंभा के हाथ उसके लंड को हिलाते हुए फिर से जगाने लगे.

“तुमने अपनी ज़िंदगी के बारे मे क्या सोचा है,रंभा?”,प्रणव ने लंड उसके हाथ से खींचा & उसे लिटा के अपने घुटनो पे हो लंड को उसके होंठो से सताया.रंभा ने उसके लंड को पकड़ के हिलाया लेकिन जब प्रणव ने लंड को उसके होंठो पे सताए तो उसने शर्मा के मुँह फेर लिया.प्रणव ने उसके चेहरे को अपनी ओर घुमाया & 1 बार फिर लंड को उसके होंठो पे रगड़ा.रंभा ने थोड़ी ना-नुकर की लेकिन फिर अपने गुलाबी होंठो मे उसके लंड को क़ैद कर लिया.उसके ज़हन मे विजयंत मेहरा के तगड़े लंड की तस्वीर कौंधा गयी & उसके दिल मे 1 हुक सी उठी.उसका ससुर लौटने वाला नही था & अब शायद ज़िंदगी भर ये कसक उसका पीछा नही छ्चोड़ने वाली थी.उसके जिस्म मे विजयंत के बदन & उसके प्यार करने के अंदाज़ की याद ने आग लगा दी & उसके होंठ प्रणव के लंड पे & कस गये.

“मैं समझी नही.”,उसने लंड मुँह से निकाला & उठ बैठी.प्रणव अपने घुटनो पे खड़ा हो गया तो वो उसकी झांतो मे & निचले पेट पे अपने चेहरे को रगड़ते हुए अपनी मस्ती का इज़हार करने लगी.

“मेरा मतलब है कि क्या तुम यूही बस अपनी उलझन का रोना रोती रहोगी या कुच्छ करोगी भी?..आहह..!”,रंभा ने उसके 1 अंडे को मुँह मे भर ज़ोर से चूसा.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:04 AM,
#47
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--48

गतान्क से आगे......

“पर मैं करू क्या?!”,रंभा के कान अब खड़े हो गये थे..आख़िर प्रणव के मन मे क्या चल रहा था?..उसने उसकी गंद को अपनी गिरफ़्त मे ले लिया था & उसके लंड को अपने मुँह मे हलक तक भर सर आगे-पीछे कर रही थी & प्रणव को ये एहसास हो रहा था कि वो अपनी महबूबा का मुँह चोद रहा है.आहें भरते हुए उसने उसके सर को थाम लिया था.

“तुम पढ़ी-लिखी,काबिल लड़की हो.शादी से पहले तुम नौकरी करती थी तो अब क्यू नही काम करती?”,उसने रंभा का सर अपने लंड से खींचा.रंभा को ये अच्छा तो नही लगा लेकिन अगले ही पल वो फिर से खुश हो गयी क्यूकी प्रणव ने उसे लिटा के अपना लंड दोबारा उसके मुँह मे दे दिया था & खुद 69 पोज़िशन मे आते हुए उसकी चूत चाटने मे जुट गया था.उसकी भारी जाँघो को थाम के उसने फैलाया & अपनी आतुर ज़ुबान उसकी गुलाबी चूत मे उतार उसके रस को चाटने लगा.

“उउम्म्म्म..”,रंभा ने अपनी नाक उसकी झांतो मे रगडी.प्रणव की ज़ुबान उसकी चूत को पागल कर रही थी,”..पर कैसा काम करू मैं?..आन्न्‍णणन्..!”,प्रणव उसके दाने को उंगली से ज़ोर-2 से रगड़ रहा था & उसकी कमर अपनेआप उचकने लगी थी.

“ग्रूप को जाय्न कर लो.समीर को बोलो कि वो तुम्हे कोई भी काम दे दफ़्तर मे.कितना भी मामूली क्यू ना हो मगर काम हो ताकि तुम घर मे बैठी मायूस ना हो & तुम्हारा दिल बहला रहे.”,प्रणव उसके दाने को रगड़ते हुए उसकी चूत से बहते रस को पी रहा था.

“आन्न्‍न्णनह..हाआआन्न्‍ननननननणणन्.....!”,प्रणव की झांतो मे मुँह बेचैनी से रगड़ते हुए उसके आंडो को नाक से छेड़ती रंभा झाड़ गयी थी,”..क्यू जानेमन..तुम तो हो ही मेरा दिल बहलाने के लिए फिर मुझे दफ़्तर मे नीरस फाइल्स मे सर खपाने की बात क्यू कर रहे हो?..उउन्न्ञणन्..!”,रंभा मस्ती की खुमारी मे भी प्रणव के दिल को टटोल रही थी.प्रणव उसके उपर से उतरा तो वो बाई करवट पे हो गयी & वो उसके पीछे आ गया & उसकी जाँघ उठाके अपने लंड को दोबारा उसकी चूत मे घुसाने लगा.

“पर तुम भी अच्छी तरह से जानती हो की लाख चाहने के बावजूद..आहह..कितनी कसी है तुम्हारी चूत,जान!..समीर तुम्हे चोद्ता नही क्या,मेरी रानी?”,उसने लंड पूरा अंदर घुसाया & उसकी जाँघ को थामे हुए उसकी चुदाई मे जुट गया.

“चोद्ता है मगर उसके पास तुम्हारे जैसा अंदाज़ कहा!”,रंभा ने दाए हाथ को टाँगो के बीचे ले जा उसके अंडे दबा दिए तो वो जॉश मे पागल हो उसकी चूचियो को दबाने लगा & उसे चूमने लगा.

“हां तो मैं कह रहा था कि मैं हर पल तुम्हारे साथ नही हो सकता और जुदाई के उन लम्हो मे तुम अकेलेपन & अपने दर्द को & शिद्दत से महसूस करोगी.तो ज़रूरी है कि तुम अपना ध्यान कही और भी लगाओ.फिर तुम समीर की बीवी होने के नाते कंपनी की कुच्छ हद्द तक मालकिन भी हो.तुम्हारा भी हक़ बनता है ग्रूप पे.”,प्रणव धक्के लगाता हुआ उसके दाने को भी रगड़ रहा था & रंभा का जिस्म झटके खाने लगा था.चूत पे दोहरी मार वो बर्दाश्त नही कर पाई थी & झाड़ गयी थी,”..& सबसे ज़रूरी बात..”,उसने रंभा की चूत सेबिना लंड निकाले उसे पीठ के बल लिटाया & फिर उसकी जाँघ को थामे हुए उसकी टाँगो के बीच आ गया & उसके उपर लेट गया.रंभा ने उसे बाहो मे भर लिया & उसके चेहरे & होंठो को चूमने लगी.

“..इन भाई-बेहन के लिए हम खिलोने हैं रंभा..”,वो उसकी गर्दन चूम रहा था.उसके धक्के रंभा को मस्ती से बहाल कर रहे थे.रंभा के पैर उसकी पिच्छली जाँघो पे लग गये थे & वो कमर उचका रही थी,”..इन्हे हम पसंद आ गये तो ये हमे शादी कर अपने घर ले आए..”,रंभा ने उसे बाहो मे भींच लिया था.उसके जिस्म का दबाव उसे बहुत भला लग रहा था.उसके दिल मे फिर से विज़ायंत के जिस्म के भार के मीठे एहसास की खुमारी जागी & उसकी चूत की कसक दोगुनी हो गयी & वो आहें भरते हुए तेज़ी से कमर उचकाने लगी,”..कल को ये हम से ऊब जाएँगे और हमे अपनी ज़िंदगी से ऐसे निकाल फेंकेगे जैसे दूध मे पड़ी मक्खी इसीलिए ज़रूरी है कि हम अगर इनकी ज़ाति ज़िंदगी मे इनके काम के ना रहें तो इनकी कारोबारी ज़िंदगी मे हम इनकी ज़रूरत बने रहें..आहह..!”,रंभा की चूत की कसक चरम पे पहुँची & उसने अपने नाख़ून प्रणव की पीठ मे धंसा दिए & उचक के उसे चूमने लगी.उसकी चूत ने झड़ते ही अपनी मस्तानी हरकतें शुरू कर दी & प्रणव का लंड उस मस्ती से बहाल हो वीर्य की पिचकारियाँ छ्चोड़ने लगा.

सुकून से भरी रंभा अपनी च्चातियो पे पड़े हान्फ्ते प्रणव के बॉल सहला रही थी & ये सोच रही थी कि उसके नंदोई की बातो मे ईमानदारी है या फिर उसका मक़सद कुच्छ और है..जो भी हो..उसकी चुदाई ज़बरदस्त थी & उसे तो उसी से मतलब था..& फिर उसकी ईमानदारी जानने के लिए उसे अपने बिस्तर मे रखने से ज़्यादा अच्छी तरकीब और क्या हो सकती है.

-----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

वो शख्स सिगरेट का 1 पूरा पॅकेट ख़त्म कर चुका था.रंभा को अपार्टमेंट के अंदर गये 3 घंटे हो गये थे लेकिन वो अभी तक बाहर नही आई थी.उसकी समझ मे नही आ रहा था कि आख़िर वो अंदर कर क्या रही थी.वो यहा तक कार खुद चला के आई थी & अगर वो यहा से सीधा अपने बंगल गयी तो वाहा तक के रास्ते मे बीच मे 1 सुनसान हिस्सा पड़ता था जहा उसका काम हो सकता था.उसने सिगरेट का 1 नया पॅकेट डॅशबोर्ड से निकाला & खोल के 1 नयी सिगरेट सुलगाई.आज तो वो रंभा से मुलाकात करके ही रहेगा,उसने पक्का इरादा किया & काश खींचने लगा.

“दफ़्तर नही जाना क्या?..छ्चोड़ो ना..& कितना करोगे..ऊव्ववव..!”,रंभा बिस्तर पे बैठी थी & प्रणव उसे पीछे से बाहो मे भरे उसकी छातियो को मसलते हुए उसे वापस लिटाने की कोशिश कर रहा था.

“अभी तो पूरा दिन पड़ा है,जानेमन!”,उसने उसके निपल्स को उंगलियो मे दबाया & उसके दाए कान पे काटा.

“नही.अब हो गया.अब ऑफीस जाओ & मैं भी घर जाती हू वरना किसी को शक़ ना हो जाए.”,रंभा उसकी गिरफ़्त से निकली & बिस्तर से उतर अपने कपड़े उठा बाथरूम मे घुस गयी.प्रणव ने भी ठंडी आह भरी & अपने कपड़े पहनने लगा.रंभा ने बात तो ठीक कही थी लेकिन वो भी मजबूर था.वो हसीन थी ये तो उसे पता था लेकिन उसके नंगी होने पे & साथ हमबिस्तर होने पे उसे पता चला कि उसका हुस्न कितना नशीला,कितना दिलकश है & उसकी अदाएँ कितनी क़ातिल हैं.वो तो उसे अपने पहलू से निकलने ही नही देना चाहता था मगर किया क्या जा सकता था!

रंभा बाथरूम से निकली तो उसने वही ब्लाउस पहना था जिसे पहन वो फ्लॅट मे आई थी.प्रणव ने उसे सवालिया निगाहो से देखा तो रंभा दूसरे ब्लाउस को पॅकेट मे रखते हुए मुस्कुराइ,”ये ब्लाउस पहन के निकलती तो लोग सोचते नही कि पति शहर से बाहर है & किसी पार्टी मे भी नही जा रही तो ऐसे लिबास मे किसे रिझाने जा रही है.”

प्रणव मुस्कुरा. हुए उसके करीब आया & उसे बाहो मे भर चूमते हुए कमरे से निकल फ्लॅट के मेन दरवाज़े की ओर बढ़ा. रंभा हसीन थी,दिलकश थी & काफ़ी होशियार भी.प्रणव को इस बात की खुशी हुई की उसे ज़्यादा कुच्छ समझाना नही पड़ेगा लेकिन साथ ही ये डर भी लगा कि कही उसकी चालाकी उसकी राह मे कोई रोड़ा ना अटकाए.फिलहाल तो ये हुसनपरी उसकी बाहो मे थी & अभी उसे खुद से जुदा करने का उसका कोई इरादा नही था,”तुम 15 मिनिट बाद निकलना.ओके?”,प्रणव ने 1 आख़िर बार उसके लब चूमे & निकल गया & उसके कहे मुताबिक 15 मिनिट बाद रंभा भी.

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

रंभा ड्राइव करते हुए प्रणव के बारे मे सोच रही थी.उसकी समझ मे नही आ रहा था कि आख़िर वो उसे ग्रूप जाय्न करने को क्यू उकसा रहा था..जो भी हो बात तो ठीक लगती थी..लेकिन वो करेगी क्या?..उसने कार उसी सुनसान स्ट्रेच पे मोदी.मोड़ पे 1 सिनिमा का पोस्टर लगा था जिस पर कामया की तस्वीर बनी थी.उसे देखते ही रंभा के दिल मे गुस्सा,नफ़रत & जलन भर गये लेकिन दिमाग़ मे 1 ख़याल कौंधा..हां!..यही ठीक रहेगा..वो ट्रस्ट ग्रूप की फिल्म प्रोडक्षन कंपनी को जाय्न करेगी & इस चुड़ैल पे नज़र रखेगी..नज़र क्या,कामिनी का करियर ही चौपट कर देगी!....स्कककककककरररर्रररीईईककचह..!

ख़यालो मे डूबी रंभा ने अचानक 1 इंसान को गश खाते हुए रास्ते के बगल से उसकी कार के सामने आ गिरते देखा & उसने फ़ौरन ब्रेक लगाया.बस ज़रा सी देर करती और वो इंसान उसकी कार के पहियो के नीचे आ जाता.वो जल्दी से कार से उतरी & उस आदमी को देखने गयी जो औंधे मुँह बेहोश पड़ा था.

“सुनिए..सुनिए..!”,रंभा ने उसके कंधे पे हाथ रख के हिलाया ही था कि वो शख्स बिजली की फुर्ती से उठा & अपनी बाए हाथ मे पकड़ी पिस्टल रंभा की ओर तान दी.रंभा डर से कांप उठी..गाल पे वो निशान!..ये तो वही शख्स था जो क्लेवर्त के बुंगले मे घुसा था!

“ चुपचाप अपनी कार मे बैठो.”,उस शख्स ने पिस्टल को अपने कोट की बाई जेब मे घुसा उसे अंदर से रंभा पे तान दिया था ताकि बगल से गुज़र रही इक्का-दुक्का गाडियो को वो ना दिखे,”..भागने की कोशिस या ज़रा भी चूं-चॅपॅड की तो गोली भेजे के पार होगी.बैठो!”

“इधर नही ड्राइविंग सीट पे.”,रंभा कार की पिच्छली सीट पे बैठने लगी तो उसने उसे टोका,”..अब कार आगे बढ़ा & जिधर मैं कहु वाहा ले चलो.”,वो रंभा के बगल मे बैठ गया था & उसकी पिस्टल अभी भी कोट की बाई जेब मे च्छूपी रंभा पे तनी थी.वो शख्स बहुत चालाक था.रंभा की शुरुआती घबराहट कम हुई तो उसने सोचा था की रास्ते के किसी ट्रॅफिक सिग्नल पे कार रुकी तो वो ख़तरा मोल ले शोर मचा देगी लेकिन उस शख्स ने ऐसे रास्ते चुने जिनपे सिग्नल था ही नही & जो 1-2 मिले भी उनपे कोई खास भीड़ थी ही नही.उपर से सिग्नल्स पे वो शख्स पिस्टल को जेब से निकाल उसकी खोपड़ी से सटा देता था.

-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

थोड़ी देर बाद कार शहर के बाहर 1 नयी बस्ती कॉलोनी के 1 खाली मकान के बाहर रुकी.उस शख्स ने शहर आने के बाद सबसे पहले-रंभा पे नज़र रखने से भी पहले-इस जगह को ढूँढा था.उस मकान के मालिक विदेश मे थे & उनका जो रिश्तेदार बीच-2 मे उसे देखने आता था वो भी 2 महीनो से बाहर था.उसने उसका ताला तोड़ा & उसपे अपना ताला लगा दिया.

“कार से उतर के गेट के अंदर चलो & याद रहे कोई चालाकी मत दिखाना वरना यही ढेर कर दी जाओगी.”,रंभा जानती थी की वो बुरी तरह फँस गयी है & उस शख्स की बातें मानने की अलावा उसके पास & कोई चारा नही.मकान के अंदर घुसते ही उस शख्स ने उसे 1 कुर्सी पे बैठने को कहा & फिर उसे उस से बाँध दिया.

“तुम चाहते क्या हो?कौन हो तुम?..आख़िर मुझे यहा बंद क्यू किया है?”,वो शख्स सिगरेट सुलगाते हुए मुस्कुरा रहा था.

“तुमहरा नाम रंभा है?”

“हां,लेकिन..-“,उसने हाथ उठा उसे खामोश रहने का इशारा किया.

“तुम्हारी मा का नाम सुमित्रा था?”

“हां.”

“तुम उसके साथ गोपालपुर नाम के कस्बे मे रहती थी?”

“हां.”,कयि दिनो मे पहली बार उस शख्स को सुकून मिला था.उसकी तलश अंजाम तक पहुँच गयी थी.यही थी उस कमिनि की बेटी!उसने सिगरेट फेंकी,उसकी आँखो मे खून उतर आया था & इतने दिनो से अंदर उबाल रहा गुस्सा अब बस फूट पड़ना चाहता था.वो तेज़ी से आगे बढ़ा & रंभा का गला दबाने लगा.

“उउन्नगज्गघह..छ्चोड़ो..!”,रंभा के गले से आवाज़ भी नही निकल रही थी.

“ग़लती तुम्हारी नही है..ग़लती तो तुम्हारी कमीनी माँ की है..लेकिन क्या करें मुझे इन्तेक़ाम लेना है & वो मक्कार तो मर गयी.अब मा-बाप के क़र्ज़ औलाद नही उतरेगी तो & कौन उतरेगा!”,वो शैतानी हँसी हंसा & रंभा का गला छ्चोड़ दिया.रंभा बुरी तरह खांसने लगी,”..लेकिन घबराओ मत.तुम्हारी मौत इतनी जल्दी & इतनी आसान नही होगी.14 बरस गुज़ारे हैं जैल मे & उसके बाद भी बहुत धूल फंकी है.उस सब की कीमत तो तुम्हे ही चुकानी है.”

“लेकिन तुम हो कौन?..& मेरी माँ ने क्या बिगाड़ा था तुम्हारा?..वो बहुत भली औरत थी..तुम्हे कोई ग़लतफहमी हुई है..!”,रंभा का गला दुख रहा था.

“चुप!वो मक्कार थी.अपने रूप & बातो के जाल मे मुझे फँसा के मेरी ज़िंदगी बर्बाद कर दी & खुद ऐश करने लगी दयाल के साथ!”

“बकवास मत कर,कामीने!मेरी मा के बारे मे अनाप-शनाप मत बोल,हराम जादे!”,मा के बारे मे उल्टी-सीधी बातें सुन रंभा को गुस्सा आ गया.

“तड़क्कककक..!”,उसने 1 करारा तमाचा रंभा के गाल पे रसीद किया,”..तू भी उस हराम की कमाई पे ही पली-बढ़ी है ना..तुझे तो अब सज़ा ज़रूर मिलेगी.”,वो दोबारा उसका गला घोंटने लगा,”..मेरे पैसे चुरा के भागी थी वो दयाल के साथ.मैं उस से प्यार करता था & शादी करना चाहता था लेकिन वो कमीनी मेरे पैसे लेके भाग गयी मेरे ही दोस्त के साथ!

“तब तो ज़रूर मारो मुझे….उउन्न्नननगज्गघह…..पैसे चुराने के बाद भी जिसे तंगहाली मे ज़िंदगी गुज़ारनी पड़ी..ऐसी औरत की बेटी का तो मर जाना ही अच्छा है..!”,रंभा की आवाज़ मे कुच्छ ऐसा था कि वो शख्स रुक गया,”..रुक क्यू गये..!दबाओ मेरा गला..”,रंभा खाँसने लगी,”..मार दो मुझे जान से ताकि उपर जाके अपनी मा से ये सवाल कर सकु कि अगर उसने इतने पैसे लूटे थे तो फिर वो बेचारी पूरे साल मे बस 1 सारी क्यू ख़रीदती थी?..क्यू वो मुझे कोई कमी महसूस ना हो इसके लिए वो 12-12 घंटे काम करती रही उस 2 टके के की जगह मे?..& उसका कोई यार था तो क्यू सारी उम्र उसने तन्हा गुज़ार दी?..रातो को मुझसे च्छूप वो क्यू रोती रहती थी?. .”,रंभा कितनी भी मतलबी लड़की थी लेकिन अपनी मा से उसे बहुत प्यार था & उसकी याद आते ही उसकी आँखे छलक पड़ी.,वो शख्स कुच्छ देर उसे देखता रहा.वो उस लड़की को भाँपने की कोशिश कर रहा था..उसके आँसू सच्चे लग रहे थे.बातो से भी ईमानदारी की महक आ रही थी.लड़की हिम्मतवाली भी थी..अभी भी घबरा नही रही थी & शायद उसे बातों मे फाँसना चाह रही हो..लेकिन हो सकता है बात सही कह रही हो..दयाल तो था भी कमीना!..& जब सब हुआ था तो ये बमुश्किल 3-4 बरस की होगी..अब इसे क्या पता?..उपर से ना जाने उसने इसे क्या कहानी सुनाई हो..वैसे बताने मे कोई हर्ज भी नही..पता तो चले सुमित्रा ने बेटी को क्या बताया था अपनी ज़िंदगी के बारे मे!..मगर इस लड़की से होशियार रहना पड़ेगा.थी ये भी मा के ही जैसी..साली ससुर के साथ सोती थी!

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:04 AM,
#48
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--49

गतान्क से आगे......

“तुम्हे पता है तुम्हारा बाप कौन है?”

“नही.जो भी था 1 डरपोक,बुज़दिल &घटिया किस्म का इंसान था जो मेरी मा के पेट मे मुझे डालने की हिम्मत तो रखता था लेकिन उसे & मुझे अपनाने की नही.”,रंभा की रुलाई अब धीमी हो गयी थी..तो सुमित्रा ने उसे ये बात तो सही बताई थी.

“मेरा नाम देवेन सिन्हा है.तुम्हारी मा को मैने पहली बार गोपालपुर के पोस्ट ऑफीस मे देखा था..”,उसने 1 कुर्सी खींची & बैठ गया & 1 नयी सिगरेट सुलगाई,”..& उसे देखता ही रह गया था.उस वक़्त तुम भी उसकी गोद मे थी.हल्की गुलाबी सारी मे लिपटी तुम्हे गोद मे लिए सुमित्रा को देख पहली बार मेरे दिल मे शादी का ख़याल आया था..मैने सोचा कि काश मेरी भी ऐसी 1 बीवी & बच्ची हो तो ज़िंदगी कितनी सुहानी हो जाए..”

“..उसके बाद इत्तेफ़ाक़ कहो या कुच्छ और मैं उस से कयि बार टकराया और हमारी जान-पहचान हो गयी.चंद मुलाक़ातो मे ही मैने इरादा कर लिया कि सुमित्रा को मैं अपनी बनाउन्गा & 1 दिन अपने दिल की बात मैने तुम्हारी मा से कह दी.उसने कोई जवाब नही दिया & मुझसे मिलना छ्चोड़ दिया.मेरी हालत तो दीवानो जैसी हो गयी & तब मैने दयाल का सहारा लिया..”,रंभा ने देखा कि उसकी मा के बारे मे बात करते हुए उस शख्स की आँखो मे नर्मी आ गयी थी लेकिन दयाल नाम को लेते ही वो फिर से अपने पुराने अंदाज़ मे आ गया था.

“..दयाल मेरा दोस्त था.सब कहते थे कि वो चलता पुर्ज़ा & निहायत शातिर आदमी है लेकिन मेरे साथ उसने कभी कोई धोखाधड़ी नही की थी & हमेशा मदद ही करता था.तुम्हारी मा से भी मेरी दोबारा बात करवाने मे उसने बहुत मदद की थी.मैने सुमित्रा से उसकी बेरूख़ी की वजह पुछि तो उसने कहा कि मैं अपनी ज़िंदगी बर्बाद ना करू और उसने उस रोज़ मुझे तुम्हारे पैदा होने की सही कहानी बताई.उस से पहले तो सब यही समझते थे कि तुम्हारे पिता तुम्हारे जनम होने के पहले ही मर गये.उस रोज़ मेरे दिल मे सुमित्रा के लिए प्यार & गहरा हो गया & मैने अपनी बात दोहराई लेकिन उसे तुम्हारी फ़िक्र थी.उसे डर था कि जब वो मेरे बच्चे की मा बनेगी तो मैं तुम्हे वैसा प्यार नही दे पाऊँगा.मैने उसे बहुत समझाया & आख़िर मे वो मान ही गयी.मैं खुशी से नाच उठा & उसे चूम लिया..”,रंभा ने नज़रे नीची कर ली.मा के बारे मे रोमानी बातें सुनने से उसे शर्म आ गयी थी.

“..वो शाम & उसके बाद की कयि शामे मेरी ज़िंदगी की सबसे हसीन शामे थी.मैं उतावला था & सुमित्रा का दीवाना & बहक के केयी बार कोशिश की उसे शादी के पहले ही अपना बना लू लेकिन वो मुझे हमेशा ही मना कर देती थी.बात सही भी थी.उस छ्होटे से कस्बे मे हमारी चाहत की खबर आम नही हुई थी यही बड़ी कमाल की बात थी & कही मैं हदें पार कर जाता तो वो तो बदनाम हो ही जाती..”

“..मेरी माली हालत बहुत अच्छी तो थी नही & मैं नही चाहता था की शादी के बाद तुम्हारी मा काम करे लेकिन उसके लिए मुझे पैसो की ज़रूरत थी.तब दयाल ने मुझे रास्ता दिखाया जो उस वक़्त तो मुझे लगा कि मेरी खुशली की ओर जाता है पर बाद मे मुझे पता चला कि वो रास्ता तो मेरी बर्बादी की तरफ जाता है और उसे बताने वाला शख्स मेरा दोस्त नही बल्कि दोस्ती का नक़ाब पहने 1 दुश्मन है.”,उसने सिगरेट फर्श पे फेंक के उसके तोटे को जूते से मसला & रंभा को देखने लगा.

“अब मैं तुम्हे बताने जा रहा हू कि कैसे मेरे दोस्त & मेरी महबूबा ने मुझे धोखा दिया & उसकी सज़ा आज तुम्हे भुगतनी पड़ रही है..-“

“-..1 मिनिट.मेरी मा दोषी नही है.”

“ये तुम कैसे कह सकती हो?तुम्हे तो उस वक़्त कोई होश भी नही था?”

“पहले तो आजतक मैने किसी दयाल नाम के शख्स के बारे मे ना तो सुना ना ही देखा & फिर वही बात कि अगर मेरी मा ने आपको धोखा दिया तो फिर हम दोनो को अपनी ज़िंदगी उस ग़रीबी मे क्यू गुज़ारनी पड़ी.”,अब वो शख्स सचमुच सोच मे पड़ गया.जब वो कयि बरसो बाद गोपालपुर गया था & पता किया था तो पाया था कि सुमित्रा 1 छ्होटे से मकान मे ही रहती थी & वो भी किराए पे.उसके बारे मे उसने बहुत जानकारी जुटाई थी & यही पता चला था कि वो निहायत शरीफ औरत थी & उसके चाल-चलन पे कभी कोई 1 उंगली भी नही उठा सका था लेकिन उसके इन्तेक़ाम की आग से झुलस रहे दिलोदिमाग ने उस बात को मानने से इनकार कर दिया था.

“हो सकता है दयाल ने बाद मे उसे भी धोखा दिया हो & उसके हिस्से का रुपया उसे ना दिया हो?”,इस बार उसके सवाल मे वो शिद्दत नही थी.रंभा की बातो ने उसकी सोच को हिला दिया था.

“मान ली तुम्हारी बात लेकिन अगर मेरी मा की फ़ितरत ऐसी थी तो उसने फिर किसी & मर्द से यारी क्यू नही गाँठि या फिर किसी और के पैसे क्यू नही हड़पे?”,रंभा उसकी आँखो मे बेबाकी से देख रही थी.देवेन को वाहा ज़रा भी झूठ नज़र नही आ रहा था मगर..

“तुम्हे पता नही होगा और फिर तुम भी तो अपने ससुर के साथ..-“,रंभा चौंक पड़ी..यानी क्लेवर्त मे उस रात उसने उसे विजयंत मेहरा की बाहो मे देख लिया था.

“मैं 1 बहुत मतलबी लड़की हू जो अपनी खुशी के लिए किसी भी हद्द तक गिर सकती है मगर मेरी मा 1 देवी थी.आपने शुरू मे उसे बिल्कुल सही समझा था..आप चाहे तो मुझे मार दीजिए लेकिन मेरा यकीन मानिए..उस औरत को पूरी ज़िंदगी मे कोई खुशी नही मिली और मुझे मलाल है इस बात का कि आज जब मैं जोकि बहुत बुरी हू..जोकि अपने ससुर के साथ सो चुकी है..इस काबिल हू कि जो चाहू वो मेरे पास आ जाए..तो वो औरत ज़िंदा नही है कि मैं उसे चंद खुशिया दे सकु.”,रंभा की निगाहो की ईमानदारी पे उसे अब शक़ नही था लेकिन फिर भी 1 सवाल तो था..

“..तो आख़िर सच क्या है & दयाल आख़िर गया कहा?”

“हुआ क्या था जिसने आपकी ज़िंदगी तबाह कर दी?”

“बताता हू.”

“दयाल छ्होटे-मोटे ग़लत काम करता था,ये मुझे पता था लेकिन वो इतने संगीन जुरमो से वास्ता रखता होगा ये मुझे बिल्कुल भी अंदाज़ा नही था.जब मैने उसे अपनी पैसो की मुश्किल की बारे मे बताया तो उसने मुझे 1 काम बताया.काम बहुत आसान था,बस मुझे 1 सील बंद पॅकेट लेके गोपालपुर से कोलकाता जाना था & उसके बताए पते पे दे देना था.इस काम के लिए मुझे वो .25,000 दे रहा था.मैने उस से पुछा की आख़िर ऐसा क्या है उस पॅकेट मे जो वो मुझे उसे बस 1 जगह से दूसरी जगह ले जाने के इतने पैसे दे रहा है तो उसने कहा कि उसमे कीमती पत्थर हैं जोकि मुझे कोलकाता मे 1 ज़ोहरी के यहा पहुचाने हैं & इसीलिए मुझे इतने पैसे मिल रहे हैं.”,वो उठा & कमरे के बाहर गया & जब लौटा तो उसके हाथ मे पानी की 1 बॉटल थी.

“मैने वो पॅकेट कोलकाता पहुचाया & मुझे पैसे मिल गये.मैं बड़ा खुश हुआ.ये दूसरी बात थी की गोपालपुर से कोलकाता तक रैल्गाड़ी मे डर के मारे मेरी हालत खराब रही,आख़िर सवाल जवाहरतो का था.”,उसने पानी के घूँट भरे & फिर 1 पल को सोच बॉटल रंभा की ओर बढ़ाई तो उसने हां मे सर हिलाया.वो अपनी कुर्सी से उठा & बाए हाथ से उसकी ठुड्डी पकड़ उसे पानी पिलाया.

“इसके बाद मैं खुद दयाल से आगे भी ऐसे काम मुझे देने को कहने लगा.पहले तो उसने मना किया लेकिन मेरे इसरार पे उसने फिर से मुझे कोलकाता ले जाने को 1 पॅकेट दिया.इस बार भी मुझे उतने ही पैसे दिए गये.मैने उस से पुछा की आख़िर कौन है वो जो उसे ये पत्थर देता है लेकिन वो बात टाल गया.मैने सुमित्रा को भी सब बताया था.उसने मुझे उस काम को करने से मना किया लेकिन मुझे पैसो का लालच तो था ही.”,उसने थोड़ा पानी & पिया,”..जैल जाने के बाद मुझे एहसास हुआ कि दोनो नाटक कर रहे थे.

“दयाल के बारे मे जो मर्ज़ी कहो लेकिन मेरी मा के बारे मे नही.”

“2 बार पॅकेट ले जाने के बाद मेरा हौसला भी बढ़ गया था & मैं तीसरी बार भी पॅकेट ले जाने को तैय्यार हो गया मगर इस बार सब गड़बड़ हो गया.ट्रेन मे मैने गौर किया कि 1 शख्स मुझपे नज़र रखे हुए है.मैं डर गया कि कही वो मेरे पॅकेट के जवाहरतो को लूटने के चक्कर मे ना हो.उसे चकमा देने के लिए मैं हॉवरह के बजाय सेअलदाह स्टेशन पे उतर गया और वाहा से 1 टॅक्सी कर दयाल के दिए पते पे जाने लगा.रास्ते मे मैने देखा कि 1 कार मेरा पीछा कर रही है.मैने टॅक्सी आधे रास्ते मे छ्चोड़ी & फिर 1 फेरी पकड़ के कुच्छ दूर गया & वाहा से फिर टॅक्सी ली लेकिन हर जगह मुझे लगा कि मुझपे नज़र रखी जा रही है.पहले मैने सोचा कि मेरी घबराहट की वजह से मुझे वहाँ हो रहा है लेकिन उस पते पे पहुँच पॅकेट थमाते ही मुझे पता चल गया कि मुझे जो लगा था सही था.वो शख्स चोर नही बल्कि पोलीस का आदमी था & उसने स्मगल किए हुए सोने के बिस्किट्स के साथ पकड़ा था.”

“..जैसे ही मुझे पकड़ा गया मैं बौखला गया & वाहा से भागने की कोशिश करने लगा.उस पोलिसेवाले ने,जो मेरा ट्रेन मे पीछा कर रहा था,मुझे पकड़ लिया तो मैने उसे मारा और भागा लेकिन वो मेरे पीछे आया & मुझपे वार किया & उसकी अंगूठी मेरे गाल पे बुरी तरह से रगडी और ये निशान पड़ गया.मैने भी वही पड़ा 1 भारी गुल्दान उसके सर पे दे मारा.मेरी फूटी किस्मत की उसका सर फॅट गया &और २४ घंटे अस्पताल मे रहने के बाद वो मार गया

“तो इसमे मेरी मा का क्या दोष है?”

“उसी ने मेरा नाम पोलीस को बताया था और इनाम की रकम ली थी.पॅकेट के बारे मे बस दयाल,वो और मैं जानते थे तो मुझे धोखा देने वाले भी वही दोनो थे ना.जब मैने पोलीस को दोनो से कॉंटॅक्ट करने को कहा तो दोनो मे से किसी ने भी मुझे जानने से इनकार कर दिया.अब बताओ आख़िर क्या वजह थी दोनो के ऐसा करने की?”

“ये भी तो हो सकता है कि मेरी मा तक तुम्हारी बात कभी पहुँची ही ना हो & फिर तुम्हारी बातो से तो यही लगता है की ये दयाल बहुत शातिर था & अपनी साज़िश को च्छुपाने केलिए इसने या तो मा से झूठ बोला होगा या फिर उस तक बात पहुचने ही नही दी होगी.”,अब देवेन सोच मे पड़ गया..जैल मे उसने 1 हवलदार को पैसे खिलाके सुमित्रा तक अपना संदेश पहुचने को कहा था.उसने अपने साथी क़ैदी से क़र्ज़ ले उसे पैसे दिए थे & उसी हवलदार ने उसे बताया था कि सुमित्रा ने उसे पकड़वाने का इनाम लिया है और इनाम लेने वो जिस शख्स के साथ आई थी उसका हुलिया दयाल जैसा ही था.मगर रंभा की बातो ने उसे दूसरे पहलू पे भी सोचने को मजबूर कर दिया था.

“मैं फिर कहती हू कि तुम्हे ग़लतफहमी हुई है.मुझे मारने से तुम्हे शांति मिलती है तो मार दो लेकिन ये सच नही बदलेगा कि मेरी मा का तुम्हारी बर्बादी से कोई लेना-देना नही.”,2 घंटे पहले उसका इरादा पक्का था कि वो इस लड़की को मार के अपना बदला पूरा करेगा लेकिन अब उसका विस्वास डिग गया था.

“तो क्या दयाल & तुम्हारी मा साथ नही थे?”

“नही!..& कौन है ये दयाल आख़िर?..मैने तो उसे कभी नही देखा!”

“ये है दयाल.”,उसने जेब से 1 तस्वीर निकाल उसे दिखाई,”..ये सुमित्रा,मेरी गोद मे ये तुम & ये है दयाल.”,1 गोरा-चिटा शख्स था जो शक्ल से तो भला दिखता था लेकिन उसकी आँखो मे 1 अजीब सी चमक थी जिसे तस्वीर मे भी देख रंभा थोड़ी असहज हो गयी.

“मैने इस आदमी को कभी नही देखा ना ही मा ने कभी इसका कोई ज़िक्र किया.”,अब देवेन को कोई शक़ नही था कि रंभा को सच मे कुच्छ नही मालूम था और शायद सुमित्रा भी निर्दोष थी.वो निढाल हो कुर्सी पे बैठ गया.रंभा को अचानक वो बहुत बूढ़ा लगा.कुच्छ पल बाद वो उठा और उसके बंधन खोल दिए.रंभा अपनी कलाईयो को सहलाती कुर्सी से उठी & उसके सामने खड़ी हो गयी.

“देखिए,मैं आपको नही जानती लेकिन आप मेरी मा को चाहते थे,उसे अपनाना चाहते थे,ये बात मेरे लिए बहुत मायने रखती है.मैं जानती हू,मेरी मा के साथ-2 इस दयाल की भी तलाश होगी आपको ..-“

“-..हां,लेकिन वो तो ऐसे गायब हो गया है जैसे गधे के सर से सींग!”

“उस सींग को ढूँढने मे मैं भी आपकी मदद करूँगी.मेरी मा का नाम बदनाम करने वाले को मैं छ्चोड़ूँगी नही.”,वो हैरत से रंभा को देखने लगा.

“मुझे माफ़ कर सकोगी..मैं अपने इन्तेक़ाम की हवस मे अँधा हो गया था..बुरा मत मानना लेकिन पिच्छले कयि बरसो से मैं सुमित्रा को दोषी मानता आ रहा हू & अभी भी अपनी सोच बदलने मे मुझे परेशानी हो रही है..मेरा दिल तुम्हारी बातो पे यकीन कर रहा है लेकिन दिमाग़ बार-2 मुझे सवाल करने पे मजबूर कर रहा है!”

“ये उलझन सिर्फ़ दयाल के मिलने से ही दूर हो सकती है.आप यकीन कीजिए अब से मैं भी आपके साथ हू.”

“शुक्रिया,चलो तुम्हे तुम्हारे घर तक छ्चोड़ आऊँ.”

“हूँ.”

“ये घर आपका है?”,रंभा कार मे बैठी & एंजिन स्टार्ट किया तो वो हंस दिया & बस इनकार मे सर हिलाया.

“आप जैल से निकला गोपालपुर क्यू नही आए?”

“क्यूकी वाहा से निकलते ही जैल का मेरा 1 साथी मुझे तमिल नाडु ले गया.मैने वाहा हर तरह का काम किया.मुझे इन्तेक़ाम तो लेना था लेकिन अब मैं दोबारा जैल भी नही जाना चाहता था,मेरे उसी साथी ने मुझे पहले पैसे जमा करने की सलाह दी & फिर इन्तेक़ाम लेने की.कुच्छ किस्मत ने भी मेरा साथ नही दिया.मैने वाहा जाने की कोशिश की थी लेकिन हर बार कुच्छ ना कुच्छ अड़ंगा लग जाता था.जब कामयाब हुआ तो पता चला कि सुमित्रा अब इस दुनिया मे है नही & दयाल गायब है.”

“आप अभी भी तमिल नाडु मे ही हैं?..वाहा काम क्या करते हैं आप?”

“नही.अब तो मैं गोआ मे रहता हू & वही बिज़्नेस है मेरा.”

“अब आप क्या करेंगे?”,रंभा का बुंगला नज़दीक आ रहा था & देवेन ने उसे कार रोकने का इशारा किया.

“अभी तो गोआ जाऊँगा..रंभा..मुझे तुम्हे कुच्छ बताना है.”

“क्या?”,देवेन ने उसे कंधार फॉल्स पे देखी सारी बात बता दी.

“वो हरपाल होगा. ”

“पता नही.मुझे उसकी शक्ल नही दिखी थी & दिखती भी तो मैं उसे पहचानता तो हू नही.”

“&सोनिया..वो लड़की मेरे ससुर के साथ आई थी..आपको पक्का यकीन है?”

“बिल्कुल.मैने दोनो को होटेल वाय्लेट से 1 साथ कार मे निकलते देखा था & झरने तक उनका पीछा किया था.”

“अच्छा.”,रंभा सोच मे पड़ गयी.कुच्छ गड़बड़ लग रही थी लेकिन क्या ये वो समझ नही पा रही थी.परेशानी ये थी कि ये बात वो पोलीस को भी नही बता सकती थी क्यूकी ऐसा करने से देवेन बिना बात के इस चक्कर मे फँस जाता.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply
11-03-2018, 02:04 AM,
#49
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--50

गतान्क से आगे......

“तुम्हे पता है तुम्हारा

“तो मैं चालू?”,देवेन ने कार का दरवाज़ा खोला.

“ओके.”,रंभा मुस्कुराइ तो उसने उसे 1 कार्ड थमाया.

“ये मेरा नंबर है.”

“थॅंक यू.मैं आज ही घर जाके मा की चीज़े देखती हू.हो सकता है उनमे कोई सुराग मिले.”

“हूँ..चलो,बाइ.”

“बाइ.”

“आज याद आई है मेरी?”,प्रणव के कमरे मे कदम रखते ही रीता ने तल्ख़ नज़रो से उसका स्वागत किया.प्रणव खामोशी से बिस्तर पे उसके बगल मे बैठ गया,”..अब मन भर गया ना मुझसे?”,प्रणव ने उसे ऐसे देखा जैसे उसे ये बात बहुत बुरी लगी हो.अचानक उसने रीता को बाहो मे भींच लिया & उसे पागलो की तरह चूमने लगा.

“आहह..नाआअ……छ्चोड़ो..छोड़ो..मुझे..उउम्म्म्मम..!”,रीता उसकी गिरफ़्त मे च्चटपटाने लगी.

“कैसे आता पहले?..हर रोज़ तो शिप्रा आपके साथ चिपकी रहती थी..उसके सामने आपको प्यार करने लगता क्या?”,प्रणव ने उसे बिस्तर पे लिटा दिया था & उसके उपर चढ़ उसे अपनी गर्म किस्सस से बहाल कर रहा था.

“ओह..माआअ..कभी अकेले मे पकड़ लेते मुझे..आन्न्‍णणन्..”,प्रणव ने उसकी नाइटी मे हाथ घुसा उसकी चूचियाँ मसल दी थी,”..कितना तदपि हूँ तुम्हारे लिए,प्रणव..ऊहह..!”,अपनी चूचियो को पीते अपने दामाद के सर को उसने अपने सीने पे & भींच दिया और सुकून से आँखे बंद कर ली.

“आपको भी बस अपने दर्द की फ़िक्र है मेरी परवाह नही.”,प्रणव ने उसकी चूचियो को जी भर के चूमने के बाद सर उपर उठा के अपनी सास को देखा.

“क्या हुआ प्रणव?क्या बात परेशान कर रही है तुम्हे?”,रीता ने थोड़ी चिंता के साथ उसके बालो मे हाथ फिराए.

“मोम,डॅड के लिए मैं कभी 1 चौकीदार से ज़्यादा नही रहा.”,उसका बाया हाथ अभी भी रीता की चूचियो को बारी-2 से दबा रहा था.

“क्या बोल रहे हो प्रणव!तुम दामाद हो इस घर के!..ऊहह..!”,रीता ने टाँगे फैलाई तो प्रणव ने अपना पाजामे मे क़ैद लंड उसकी चूत पे दबा दिया.

“हां,लेकिन हैसियत तो चौकीदार के जितनी ही है.जब समीर गायब हुआ तो डॅड ने सब मुझे सौंप दिया & जब वो वापस आ गया तो उनकी वसीयत मे तो मुझे कुछ नही मिला.ये मत समझिए कि मैं लालची हू & मुझे आपकी दौलत की हवस है..”,प्रणव अपनी कमर हिलाके सास की चूत को लंड से बुरी तरह दबा रहा था,”..मुझे चाहत है इज़्ज़त की.ट्रस्ट ग्रूप को मैने अपना सबकुच्छ दिया है तो बदले मे मुझे बस इतनी इज़्ज़त चाहिए की मेरा भी नाम उसके मालिको मे शुमार हो,मुझे भी समीर के बराबर की जगह मिले, भले उसके बदले मे मुझे हर महीने वही तनख़्वाह मिले जो अभी मिलती है.”,रीता गौर से दामाद को देख रही थी.1 मर्द के अहम को ठेस लगे तो वो तिलमिला जाता है & कोई भी ग़लत कदम उठा सकता है.प्रणव ने ऐसा किया तो परिवार के साथ-2 कारोबार पे भी असर पड़ता & उसे भी उसकी ज़ोरदार चुदाई से महरूम रहना पड़ सकता था.

रीता ने दामाद को बाहो मे भरते हुए पलटा & उसके सीने को चूमते हुए उसके पाजामे तक आई & उसे छोड़, उसके लंड को निकाला & मुँह मे भर लिया.उसने लंड चूस-2 के प्रणव के दिल को खुशी से भर दिया फिर उसके कपड़े उतार उसे नंगा किया & अपनी पॅंटी उतारी & फिर नाइटी को हाथो मे उठा उसके उपर आ उसके लंड पे बैठ गयी.

“अपने दिल से सारे बुरे ख़याल निकाल दो,प्रणव..ऊहह..”,लंड ने उसकी चूत को पूरा भर दिया था.वो झुकी & दामाद के होंठो को चूमा,”..मुझपे भरोसा रखो,मैं तुम्हारी चाहत पूरी करूँगी..ज़रूर करूँगी..माइ डार्लिंग..तुम बस मुझे यू ही अपने पास रखो..आन्न्न्नह..शरीरी कहिनके!”,प्रणव ने उसकी गंद को दबोच उसके छेद मे उंगली घुसा दी थी.रीता ने शरारत से मुस्कुराते हुए दामाद के गाल पे प्यार भरी चपत लगाई तो उसने उंगली को & अंदर घुसा दिया,”..ऊव्ववव..!”,रीता मस्ती मे कराही & जिस्मो का खेल शुरू हो गया.प्रणव ने उसे बाँहो मे भरा तो उसने अपना चेहरा उसके दाए कंधे मे च्छूपा लिया.प्रणव उसकी चूत को लंड से और गंद को उंगली से चोद्ता मुस्कुराने लगा..समीर को घेरने के लिए उसका जाल तैय्यार होता दिख रहा था उसे अब.

रंभा उस रात खूब सोई.उसने पूरी शाम अपनी मा के बारे मे सोचा & देवेन के बारे मे भी.देवेन के लिए वो 1 लगाव सा महसूस कर रही थी.उसकी मा को कितना चाहता था वो लेकिन उस बेचारे को क्या मिला?..बस दर्द & तकलीफ़..पूरी उम्र के लिए!उसने तय कर लिया कि वो उसके घाव पे मरहम ज़रूर लगाएगी & उस दयाल को खोज के रहेगी चाहे कुच्छ भी हो जाए.

अगली सुबह वो उठी तो उसे प्रणव का ख़याल आया.उसने उसे फोन करने की सोची लेकिन उस से भी पहले समीर को फोन किया.समीर ने उस से ढंग से बात नही की & मसरूफ़ होने का बहाना बनाया.उसके रवैयययए ने रंभा के ट्रस्ट फिल्म्स को जाय्न करने के इरादे को और पुख़्ता कर दिया.उसने प्रणव को फोन किया तो आज उसे भी बहुत काम था.उसने शॉपिंग जाने का इरादा किया और उसकी तैय्यारि करने लगी.

“हेलो..”,रंभा ने 1 ढीली सी लंबी,सफेद स्कर्ट पहनी थी & काले ब्रा के उपर पूरे बाजुओ की काली कमीज़ डाल उसके बटन्स लगा ही रही थी कि प्रणव का फोन आ गया,”..मैं तो शॉपिंग जा र्है थी..हां..पूरा दिन बिज़ी रहोगे क्या?..बहुत बुरे हो तुम..अभी तो समीर भी नही है & तुम्हारे पास मेरे लिए वक़्त ही नही है..हूँ..ओके,बाइ!”,रंभा ने मुस्कुराते हुए मोबाइल बंद किया..उसका नंदोई तो उसका दीवाना हो गया था!

“हां वो दिखाओ..”,दोपहर के 12 बजे डेवाले के नेहरू मार्केट मे भीड़ होने लगी थी,”..इस मार्केट मे हर समान की दुकाने थी & कॉलेज जाने वाले लड़के-लड़की यहा कपड़े खरीदने के लिया खूब आते थे.रंभा 1 दुकान मे टँगे 1 स्कर्ट को देख रही थी.

“हाई!”,वो चौंक के घूमी.

“प्रणव..तुम यहा?”,उसके चेहरे पे हया की सुर्खी आई & फिर उसने आवाज़ थोड़ी धीमी की,”..तुम तो पूरा दिन बिज़ी रहने वाले थे?”,वो स्कर्ट को हाथो मे ले देख रही थी,”..उन..नही..वो दिखाओ..उधर उपर जो तंगी है..”,उसने दाए हाथ को उपर उठाके इशारा किया & ऐसा करने से उसकी कंज़ी थोड़ा उचक गयी & उसकी गोरी कमर नुमाया हो गयी.

“वो तो तुम्हे छेड़ रहा था.”,प्रणव उसके पीछे खड़ा था & उसका दाया हाथ रंभा की कमर से आ लगा था लेकिन इस तरह की दुकानदार को ना दिखे,”..वरना मेरी ऐसी मज़ाल की तुम्हारी खदिमात से पहले कंपनी की खिदमत करू!”,उसने वाहा के माँस को दबाया तो रंभा की चूत कसक उठी & उसने बड़ी मुश्किल से अपनी आह को दबाया.

“वो भी दिखाना..”,रंभा ने दुकानदार को दूसरी तरफ तंगी स्कर्ट दिखाई & फिर उसके घूमते ही प्रणव का हाथ कमर से नीचे करते हुए घबरा के देखा,”..क्या कर रहे हो?..किसी ने देख लिया तो?”

“तो..क्या कह दूँगा कि मेरी महबूबा है!”,प्रणव फुसफुसाया & दुकानदार के घूमने से पहले कमर को ज़ोर से दबा के हाथ पीछे खींचा.

“ये दोनो दे दो.”,रंभा ने स्कर्ट्स चुन ली तो प्रणव ने उनके पैसे दे दिए & फिर दोनो बाहर निकल आए.बाज़ार मे भीड़ पल-2 बढ़ रही थी.प्रणव रंभा के बाई तरफ चल रहा था & भीड़ मे उसे रास्ता दिखाने का बहाने बार-2 उसकी पीठ या कमर च्छू रहा था.रंभा को उसके हाथो का एहसास मस्त कर रहा था.देखे जाने का डर,महबूब का साथ..ये बातें उसके जिस्म को जगा रही थी.मगर पकड़े जाने का डर बहुत था वाहा.1 तो इतने बड़े खानदान की बहू ऐसे आम लोगो के बेज़ार मे शॉपिंग कर रही थी,उपर से किसी ने उसके नंदोई को उसके जिस्म को छेड़ते देख लिया तो बहुत बड़ा स्कॅंडल हो सकता था.समीर वाले हादसे के बाद लोग रंभा को भी पहचानने लगे थे.रंभा 1 विदेशी लाइनाये ब्रांड के शोरुम मे घुस गयी,ये सोचते हुए कि प्रणव तो वाहा आ नही पाएगा & बड़ा मज़ा आएगा उसकी शक्ल उस वक़्त देखने मे!

मगर प्रणव की किस्मेत उसका पूरा साथ दे रही थी.उस ब्रांड ने हाल ही मे मर्दो की रंगे भी निकाली थी सो वो अपनी सलहज के पीछे-2 अंदर घुसा & मेन’स सेक्षन मे चला गया.दोनो स्टोर मे घूम-2 के समान देखने लगे.रंभा 1 शेल्फ के पास आई,पुतलो पे लगी ब्रा & पॅंटी अलग-2 साइज़स मे उनके बगल मे रखे शेल्व्स पे भी थी & हर पुतले के बगल मे 1 शीशा लगा था.रंभा ने 1 ब्रा उठाया & उसे देखने लगी.

वो जहा ब्रा देख रही थी,उसके ठीक उल्टी दिशा मे प्रणव 1 अंडरवेर देख रहा था & वाहा भी वैसा ही 1 शीशा लगा था.उसने शीशे मे देखा & उसे सामने के शीशे मे देखती उस से नज़रे मिलती रंभा दिखी.रंभा ने ब्रा उठाके अपने सीने के सामने की तो प्रणव ने हौले से सर हिला के मना का दिया.वो आगे बढ़ी तो वो भी आगे बढ़ा & इस बार की ब्रा पसंद आने पे उसने ना मे सर हिलाया.रंभा मुस्कुराइ,उसे इस खेल मे बड़ा मज़ा आ रहा था.दोनो प्रेमी 1 दूसरे से अलग-थलग ,1 दूसरे की ओर पीठ किए भी रोमॅन्स कर रहे थे.उसने उसी तरह प्रणव को भी अंडरवेर चुनवाया & फिर अपना बिल अदा कर वाहा से निकल के आगे बढ़ गयी.कुच्छ देर बाद प्रणव भी वाहा से निकला & फिर तेज़ी से चलता हुआ उसके साथ हो लिया.रंभा की चूत अब रिसने लगी थी.

1 जगह बहुत भीड़ थी & प्रणव ने उसका फ़ायदा उठाते हुए उसकी कमर से हाथ उसकी गंद पे सरका दिया & उसे दबा के हाथ फ़ौरन पीछे खींचा.रंभा चिहुनकि & थोडा आयेज हुई तो प्रणव उसके बिल्कुल पीछे आ गया & उसके कंधो पे हल्के से हाथ रख थोड़ा आगे हुआ & अपना लंड उसकी गंद से सटा दिया.स्कर्ट,पॅंटी & प्रणव की पॅंट & अंडरवेर के बावजूद रंभा को उसके मर्डाने अंग की जलन महसूस हुई & उसकी चूत कसमसा उठी.रंभा थोड़ा आगे बढ़ी & 1 एटीएम मे घुस गयी.उसके पीछे प्रणव भी वाहा आ गया.एटीम कार्ड से खुलता था & 1 बार कोई अंदर हो तो बाहर से वो खिल नही सकता था.प्रणव ने 1 बार शीश एके दरवाज़े से बाहर देखा,कोई नही था..उसने अपनी सलहज को खींच के शीशे के दरवाज़े के बगल की दीवार से सटा दिया.

“नही..प्रणव..कोई आ जाएगा..!”,रंभा की आँखे जिस्म के नशे से भारी हुई थी.प्रणव ने उसकी दोनो कलाइयाँ पकड़ के उसके सर के दोनो तरफ दीवार से लगाया & उसके बाए कान मे जीभ फिराने लगा.रंभा ने मस्ती मे आँखे बंद कर ली.प्रणव आगे हो उसकी चूत पे अपना लंड दबा रहा था.उसके होंठ अब उसकी गर्देन को चूमते हुए उसके चेहरे पे आए & रंभा ने फ़ौरन उसके होंठो को अपने होंठो मे भींच उसकी ज़ुबान को चूस लिया.उसके जिस्म की कसक बहुत बढ़ गयी थी.वो अपनी कमर हिलाके प्रणव के लंड पे जवाबी धक्के दे रही थी.प्रणव ने उसकी कलाइयाँ छ्चोड़ी & उसकी शर्ट मे हाथ घुसा उसकी कमर मसल्ने लगा.रंभा तेज़ी से कमर हिला रही थी..बस कुच्छ देर &..प्रणव ने लंड & ज़ोर से उसकी चूत पे दबाया..”..उउन्न्ञनननणणन्..!”,रंभा ने बड़ी मुश्किल से अपनी आह को प्रणव के होंठो मे दफ़्न किया & उसका जिस्म झटके खाने लगा.प्रणव ने झड़ती हुई रंभा को थाम लिया.कुच्छ पल बाद जब खुमारी उतरी तो दोनो अलग हुए & सावधानी से बाहर निकल गये.रंभा के दिल मे अब चुदाई की हसरत जाग गयी थी.उसका दिल कर रहा था कि प्रणव उसे कही ले चले जहा दोनो इतमीनान से 1 दूसरे मे खो सकें & वो अपनी आग बुझा पाए.

“अरे..रंभा जल्दी इधर कोने मे आओ!”,प्रणव ने धीमे मगर अर्जेंट लहजे मे कहा तो रंभा उसके पीछे 1 पतले से रास्ते पे चली गयी.

“क्या हुआ?”

“शिप्रा घूम रही है यहा &..”,उसने मूड के देखा,”..& इधर ही आ रही है.”,दोनो तेज़ी से निकले & खुले मे आ गये.प्रणव ने इधर-उधर देखा & उसे सामने पार्किंग के पार मल्टिपलेक्स नज़र आया,”..वाहा सिनिमा हॉल पे चलो.जल्दी!”,रंभा तेज़ कदमो से उधर गयी तो प्रणव उस से अलग हो कही गायब हो गया मगर जब रंभा सिनिमा हॉल तक पहुँची तो उसने देखा कि प्रणव टिकेट काउंटर से टिकेट खरीद के खड़ा है.

“ये टिकेट लो & अंदर जाओ.”,रंभा हॉल मे पहुँची तो देखा की प्रणव भी पीछे से आ रहा है.दोनो अलग-2 हॉल के अंदर अपनी सीट्स पे पहुँचे,”बच गये.”,लाइट्स बंद होते ही प्रणव फुशफुसाया.कोई बकवास फिल्म थी & हॉल लगभग खाली था.सिर्फ़ चंद जोड़े वाहा कुच्छ निजी पल चुराने वाहा बैठे थे.प्रणव ने सबसे पीछे की किनारे की सीट्स की टिकेट्स ली थी & उनकी रो मे 1 जोड़ा बैठा था मगर दूसरे कोने पे.

“सब तुम्हारी वजह से.क्या ज़रूरत थी ऐसे मेरे पीछे-2 बाज़ार मे आने की?”,रंभा ने उसे झिड़का तो प्रणव ने सीट्स के बीच के हत्था उठाया & अपनी बाई बाँह मे उसे लेके उसका गाल चूम लिया.”..ओफ्फो,अब यहा भी शुरू हो गये!..उउन्न्ञणणनह..!”,रंभा ने उसकी बाह से छूटने की कोशिश की लेकिन प्रणव की पकड़ बहुत मज़बूत थी.

“ग़लती मेरी नही,तुम्हारी है!”,प्रणव उसकी ज़ुबान से खेलने के बाद उसकी शर्ट मे दाया हाथ घुसा के उसकी कमर को सहला रहा था,”..इतनी हसीन क्यू हो कि बस तुमहरे करीब रहने का दिल करता है!”,उसका हाथ कमर से स्मने पेट पी आ गया & उसकी नाभि को छेड़ते लगा.

“हटो झूठे..ओह..!”,रंभा टॅरिफ सुन के मुस्कुराइ & उसके दाए कंधे को थाम लिया,”..बस मुझे बहलाने को बाते बना रहे हो..नाआ!”,प्रणव उसकी नाभि को छेड़ रहा था & उसकी चूत मे फिर से कसक होने लगी थी.

“झूठ बोलू तो अभी मर जाऊं!”,प्रणव का हाथ उसकी नाभि से सरक के उसकी पीठ पे आ गया था & उसने उसे सीने से चिपका के उसकी छातियो को अपने से भींचते हुए चूमना शुरू कर दिया.रंभा भी पूरी गर्मजोशी से उसका साथ देने लगी.पता नही कितनी देर तक दोनो 1 दूसरे की ज़ुबानो से खेलते रहे.प्रणव के हाथ उसकी कमीज़ के कसे होने की वजह से ज़्यादा उपर नही जा पा रहे थे & वो बस उसकी मांसल कमर को मसल के ही अपने को बहला रहा था.

“आह..नही..कोई देख लेगा,प्रणव!..ऊहह..!”,प्रणव ने हाथ वापस सामने लाके उसकी स्कर्ट मे आगे से घुसा दिया था & उसकी पॅंटी टटोल रहा था,”..नाआअ..!”,रंभा उसका हाथ पकड़ के खींच रही थी लेकिन प्रणव ने हाथ अंदर घुसा ही दिया था.रंभा ने शर्म & मस्ती से आहत हो अपना सर उसके बाए कंधे पे रख दिया & चेहरे गर्देन & कंधे के मिलने वाली जगह मे च्छूपा उसकी गर्देन को चूमने लगी.प्रणव की उंगलिया उसकी चूत को सहलाते हुए अंदर घुसी & उसे रगड़ने लगी.रंभा कसमसाते हुए सीट पे ही च्चटपटाने लगी.प्रणव उसके बाए कान को जीभ से छेड़ते,उसके गाल को चाटते हुए उसकी चूत मार रहा था.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply

11-03-2018, 02:04 AM,
#50
RE: Porn Hindi Kahani जाल
जाल पार्ट--51

गतान्क से आगे......

“उउन्नगज्गघह..!”,रंभा ने उसकी गर्देन के नीचे अपने दाँत गढ़ाए & अपने दाए हाथ को उसकी पीठ से ले जाते हुए प्रणव के दाए कंधे को भींचा & बाए को उसकी शर्ट के अंदर घुसा उसकी छाती मे नाख़ून धंसा दिए & झड़ने लगी.उसका जिस्म थरथरा रहा था.प्रणव उसके चेहरे को हौले-2 चूमते हुए बाए हाथ से उसकी पीठ सहलाता रहा.

रंभा संभली तो उसने चेहरा प्रणव के कंधे पे रखे-2 ही उपर घूमके उसे देखा तो प्रणव ने उसके रस से भीगी अपनी उंगलिया उसकी स्कर्ट से निकाली & उसे दिखाते हुए उन्हे मुँह मे भर उसका रस चाट लिया.रंभा ने बाए हाथ से उसके बालो को पकड़ते हुए सुके सर को घुसाया & चूमने लगी.

प्रणव ने चूमने के बाद उसका हाथ अपने लंड पे रख दिया.रंभा ने इधर-उधर देखा & उसकी ज़िप खोल दी & हाथ अंदर घुसा अंडरवीअर के उपर से ही उसके लंड को सहलाने लगी & अपने प्रेमी को चूमने लगी.प्रणव ने उसके हाथ को अपने अंडरवेर पे और दबाया & फिर अंडरवेर नीचे कर लंड को बाहर निकाल उसे अपनी महबूबा के हाथ मे दे दिया.

“पागल हो क्या!..कोई देख लेगा..!”,रंभा घबरा के बोली मगर उसे मज़ा भी आ रहा था.

“कोई नही देखेगा.”,प्रणव ने उसके हाथ को लंड पे & दबाया तो वो उसे बाए हाथ से हिलाने लगी.प्रणव उसकी शर्ट के बटन्स खोलने लगा.

“नही!बिल्कुल नही!”,रंभा ने लंड छ्चोड़ दूर होने की कोशिश की तो प्रणव ने फिर से लंड को उसे थमा दिया.

“बस 2 बटन्स खोल रहा हू,जान!घबराओ मत.”,उसने अपना दाया हाथ अंदर घुसा उसकी चूचियो को ब्रा के उपर से ही दबाना शुरू कर दिया.कुच्छ देर बाद रंभा ने देखा कि कोई उनकी ओर ध्यान नही दे रहा तो वो थोड़ा सायंत हुई & लंड ज़ोर-2 से हिलाने लगी.अब प्रणव के च्चटपटाने की बारी थी.उसने हाथ रंभा के सीने से हटाया & उसका सर पकड़ के नीचे किया तो रंभा उसका ऐशारा समझ गयी & फिर मना किया.

“प्लीज़..कोई नही देख रहा..बस तुरंत हो जाएगा..प्लीज़ मेरी जान!”,दिल तो रंभा का भी कर रहा था & प्रणव के इसरार ने उसे थोड़ा पिघला भी दिया.उसने फिर इधर-उधर देखा & जल्दी से नीचे झुक अपने महबूब का लंड मुँह मे भर लिया.उसने उसे हिलाना नही छ्चोड़ा था & साथ मे चूसना भी शुरू कर दिया था.थोड़ी ही देर मे प्रणव सीट पे अपने आप को रोकने की कोशिश कर रहा था & रंभा का मुँह उसके लंड पे & दाब रहा था.रंभा उसके आंडो को भिंचे हुए थी & उसकी ज़ुबान जिसने प्रणव के सुपादे को खूब छेड़ा था अब उसके वीर्य को चख रही थी.रंभा उसके आंडो को ऐसे दबा रही थी जैसे उन्हे दबा के वीर्य की सारी बूंदे निकाल लेना चाहती हो.उसकी ज़ुबान जल्दी-2 सारे वीर्य को अपने हलक मे उतार रही थी.कुच्छ पल बाद उसने प्रणव की गोद से सर उठाके उसकी निगाहो मे झाँका तो उसे वो उसका शुक्रिया अदा करती दिखी.प्रणव ने उसके शर्ट के बटन्स लगाए तो सुने भी उसके लंड को अंदर डाल उसकी पॅंट की ज़िप चढ़ा दी & फिर उसके कंधे पे सर रख उसकी बाहो मे क़ैद हो आँखे बंद किए सुकून के एहसास का लुफ्त उठाने लगी.

रंभा ने अपने पास रखे सुमित्रा के थोड़े से समान को छान मारा था लेकिन उसके हाथ कुच्छ नही लगा था.उसने देवेन को ये बात बताई थी.उसका कहना था कि शायद गोपालपुर जाके फिर से नये सिरे से खोज करने से दयाल के बारे मे कुच्छ जानकारी मिल सके मगर रंभा उसकी इस बात से सहमत नही थी.उसका मानना था कि दयाल जैसा लोमड़ी की तरह का चालक & शातिर शख्स ने अपने पीछे कोई निशान नही छ्चोड़ा होगा.

“तो क्या करें?”,देवेन थोड़ा झल्ला गया था.

“मुझसे मिलिए तो साथ बैठ के कुच्छ सोचते हैं.”

“ठीक है.मेरे होटेल आ जाओ.”,रंभा शाम को उसके होटेल के कमरे मे बैठी थी.उसने घुटनो तक की कसी,भूरी स्कर्ट & 1धारियो वाली पूरे बाज़ू की क्रीम शर्ट पहनी थी.पैरो मे हाइ हील वाले जूते थे & जब उसने देवेन के कमरे मे कदम रखा तो उसकी नज़रो मे दिखी उसके जिस्म की तारीफ रंभा से च्छूपी नही रही थी मगर अगले ही पल देवेन की नज़रे फिर से पहले जैसी हो गयी थी जिन्हे रंभा के हुस्न से कोई मतलब नही था.रंभा को उसका उसकी सुंदरता को निहरना बहुत अच्छा लगा था लेकिन जब उसकी निगाहे अपने पहले वाले अंदाज़ मे आ गयी तो वो अंदर से थोड़ी मायूस हो गयी थी.

ये उसकी मा का प्रेमी था..ये उसकी मा को कैसे प्यार करता होगा?..& मा..क्या वो भी इसका साथ देती होगी?..अजीब लगा उसे मा के बारे मे ऐसी बातें सोच के लेकिन इंसान का दिमाग़ तो वो बेलगाम घोड़ा है जो अपनी मर्ज़ी से अपने रास्ते पे भागता है..वक़्त के थपेड़े इसकी शक्ल पे दिखते हैं लेकिन अभी भी देखने मे ये बुरा नही है..& उसकी तरफ क्यू नही देखता वो?..क्या मा के बाद इसने किसी औरत से रिश्ता नही रखा?..ऐसा नामुमकिन है तो फिर..-

“क्या सोच रही हो?”,वो उसके सामने चाइ बनाके प्याला बढ़ाए उसे देख रहा था.

“कुच्छ नही.”,धीमी आवाज़ मे जवाब दे रंभा ने कप लिया.उसके दिल मे इस शख्स के लिए 1 जगह बन गयी थी लेकिन कैसी ये उसकी समझ मे अभी नही आ रहा था,”दयाल को जानने वाले क्या बहुत लोग थे गोपालपुर मे?..आपकी मुलाकात कैसे हुई थी?..& आपने कहा था कि आपको ये पता था कि वो कुच्छ ग़लत करता था लेकिन पूरी तरह से मालूम नही था तो ये बताइए कि क्या पता था आपको उसके बारे मे?”

“बाप रे!तुमने तो सवालो की झड़ी लगा दी.”,देवेन हंसा & चाइ का घूँट भरा.रंभा को उसकी हँसी सूरत अच्छी लगी & अपने बचपाने पे थोड़ी शर्म भी आई.देवेन उसके सुर्ख गुलाबी चेहरे को देखने लगा..मा की झलक थी उसमे..& वही शर्मीली मुस्कान..जब वो चूमता था उसे तो कैसे शरमाते हुए उसके सीने मे मुँह च्छूपा लेती थी सुमित्रा..उफफफ्फ़..& फिर जवाब मे उसकी गर्दन को चूम लेती थी..सुमित्रा को कभी नंगी नही देखा था लेकिन ये तो बला की खूबसूरत थी & कितनी बेबाक!..अपने ससुर से रिश्ता जोड़ा था & बिस्तर मे उसका पूरी गर्मजोशी से साथ दे रही थी..वो गुस्से मे तिलमिला गया था जब उसे देखा था विजयंत मेहरा से चुद्ते हुए लेकिन 1 ख़याल ये भी तो आया था कि विजयंत कितना किस्मतवाला है जो उसके नशीले जिस्म को भोग रहा है!..क्या हो गया है उसे?..वो उसकी माशूक़ा की बेटी है..तो क्या हुआ?..नही..!

“मेरी मुलाकात दयाल से उसी लॉड्ज मे हुई थी जहा मैं रहता था.वैसे तो वो अपने काम से काम रखता था..”,उसकी निगाह उसकी गोरी,सुडोल टाँगो पे पड़ी & उसे याद आया कि कैसे 1 बार सुमित्रा ने कीचड़ से बचने के लिए अपनी सारी उपर कर ली थी & उसकी टाँगो की गोराई से मदहोश हो बाद मे उसने उसके घर पे उस से विदा लेने से पहले उसकी सारी उपर कर उसकी टाँगो का निचला हिस्सा चूम लिया था.सुमित्रा उस से छिटक गयी थी,कुच्छ शर्म..कुच्छ गुस्से से लेकिन उसकी निगाहो मे उस रोज़ पहली बार उसने मस्ती की चमक देखी थी.3 बार उसने अपना लंड हिलाया था उस रात सुमित्रा को याद करके..वो क्यू बार-2 बीती, मस्तानी यादों मे खो रहा था..सब इस लड़की के हुस्न का असर था!

“..मगर कुच्छ इत्तेफ़ाक़ यू हुआ कि हमारी 1-2 बार बातें हुई & फिर या तो उसे मेरा साथ ठीक लगा या फिर उसने मुझे फसाने के ख़याल से मुझसे मेल-जोल बढ़ाना शुरू किया.मुझे भी उस से बाते करना अच्छा लगता था & बस हम दोस्त बन गये.मुझे पता था कि अगले कस्बे मे बनी जैल के क़ैदियो को वो वो जैल के हवलदारो के साथ मिलके कुच्छ चीज़ें सुप्पलाई करता था मसलन गंजा,अफ़ीम या फिर छ्होटे चाकू या फिर कॉन..-“,उसने खुद को रोका.उसे उस लड़की से कॉंडम का ज़िक्र करना अजीब सा लगा.रंभा ने भी उसकी उलझन समझते हुए नज़रे नीची कर ली.ना जाने क्यू उसे भी उसके सामने थोड़ी शर्म आने लगी थी..ऐसा पहले तो कभी नही हुआ था..विजयंत के साथ भी उसे इतनी शर्म नही आई थी..फिर आज क्यू?

“यही था उसका काम?”,रंभा ने बात आगे बढ़ाई.

“हां या फिर वो कभी-कभार शहर से कुच्छ समान लाके गोपालपुर मे बेचता था जैसे कपड़े या जूते मगर 1 बात थी.वो कभी-कभार बिना बताए अचानक चला जाता था & जब लौटता था तो उन्ही सामानो के साथ जिन्हे वो बेचने को लाता था.लॉड्ज के मालिक ने 1 बार मुझे कहा था कि मैं उसके साथ ज़्यादा ना घुलु क्यूकी उसे वो ठीक आदमी नही लगता था.मैने हंस के बात टाल दी थी.अगर पता होता तो..”

“खैर..वो इतना समान लाता था कि 3-4 दिन मे बिक जाए & 1 बात और थी.मैने उसे वो समान बेचने के लिए बहुत परेशान होते या फिर उसका प्रचार करते उसे नही देखा.आमतौर पे कैसा भी कारोबारी हो,अपने धंधे को बढ़ाने के लिए वो ज़्यादा से ज़्यादा लोगो से मिल उन्हे उसके बारे मे बताना चाहता है लेकिन दयाल ऐसा नही करता था.”

“यानी कि वो ये सब बस दिखावे के लिए करता था.”,..लड़की खूबसूरत होने के साथ तेज़ भी थी..अगर सुमित्रा सच मे मेरी तरह दयाल की चाल की शिकार बनी तब तो ये मा पे बिल्कुल नही गयी है & नही तो फिर ये अपनी मा की ही बेटी है,”..मुझे तो यही लगता है कि शुरू मे तो उसने आपसे दोस्ती बस इसीलिए रखी थी ताकि कोई तो ऐसा हो जो उसे कस्बे के बारे मे & किसी भी नयी खबर के बारे मे बताता रहे.अपने छ्होटे-मोटे कामो के बारे मे बता या यू कहे की अपने कुच्छ मामूली से ‘राज़’ आपके साथ बाँट के उसने आपका भरोसा जीता & बाद मे जब मौका मिला तो उसने आपको फँसा दिया.देखिए,जिस तरह से आप पकड़े गये थे,उस से तो यही लगता है कि दयाल को भनक लग गयी थी कि पोलीस उसके लिए जाल बिच्छा रही है & उसने चालाकी से अपनी जगह उसमे आपको फँसा दिया.”

“हूँ..तो अब क्या कहन्ना है तुम्हारा..उसे कैसे ढूंडे?”

“जो तस्वीर आपके पास है वो बहुत पुरानी & खराब भी हो गयी है.बस अंदाज़ा भर लग पता है उसकी शक्लोसुरत का.”,रंभा सोचने लगी.उसे उस कामीने दयाल को ढूँढना ही था जिसकी वजह से उसकी मा की ज़िंदगी मे खुशियाँ आने से पहले ही वापस लौट गयी..उस हरम्खोर की वजह से उसकी मा की देवेन से शादी नही हुई..अगर वैसा हुआ होता तो शायद आज वो भी ऐसी ना होती..कही बहुत सुकून से 1 आम लड़की की ज़िंदगी जी रही होती,”..उस जैल मे काम करने वाले हवलदरो को नही खोज सकते क्या हम?..हो सकता है उन्हे कुच्छ पता हो उसके बारे मे?”

“रंभा..”,वो खड़ा हो गया,”..मैं तुम्हारे जज़्बात समझता हू लेकिन क्या तुम मेरा साथ दे पओगि इस काम मे?..तुम्हारी अपनी ज़िंदगी है..1 पति है..ऐसे मे..-“

“-..अपनी मा का नाम बेदाग रखने से ज़रूरी & कोई काम नही मेरे लिए & इसके लिए मैं कोई भी कीमत चुकाने को तैय्यार हू.”

“हूँ..”,लड़की की सच्चाई पे उसे अब बिल्कुल भी शुबहा नही था,”..ठीक है.मैं देखता हू कि आगे क्या हो सकता है.”

“ठीक है तो मैं चलती हू.आप मुझे फोन कीजिएगा.”

“ज़रूर.”

“ओके,बाइ!”,रंभा को समझ नही आया कि विदा कैसे ले & उसने अपना हाथ आगे कर दिया.देवेन ने उसका हाथ थामा & उस पल दोनो के जिस्मो मे जैसे कुच्छ दौड़ गया & दोनो की मिली नज़रो ने दोनो के दिलो तक 1 दूसरे के 1 जैसे एहसास के महसूस होने की बात पहुँचा दी.

समीर वापस आ गया था & उसका बदला रवैयय्या बरकरार था.ऐसा नही था कि वो रंभा से बिल्कुल ही बेरूख़् था लेकिन दोनो के रिश्तो मे वो पहले जैसी चाहत,वो गर्मजोशी नही रह गयी थी.रंभा को उसकी ये बात पसंद तो नही आ रही थी मगर उस से इस बात पे झगड़ वो बात बिगाड़ना नही चाहती थी.उसकी जिस्मानी ज़रूरतें तो प्रणव से पूरी हो रही थी & उसके दिमाग़ ने उसके पति को अपने काबू मे रखने की तरकीबो के बारे मे सोचना शुरू भी कर दिया था.

“समीर..”,उसने उसे पीछे से बाहो मे भर लिया & उसके कुर्ते के उपर से ही उसके सीने पे नाख़ून चलाए & उसके दाए कंधे को चूम लिया,”..1 बात कहु?”

“हां.”,समीर ने अलमारी मे अपनी घड़ी रख के उसे बंद किया & घूमा तो रंभा ने उसके गले मे अपनी बाहे डाल दी.समीर ने भी अपने हाथ उसकी कमर पे रख दिए.रंभा आयेज बढ़ी & उसके जिस्म से बिल्कुल सॅट गयी.समीर अपनी पत्नी से कितना भी बेरूख़् क्यू ना हो गया हो था तो वो 1 मर्द ही.रंभा के कोमल जिस्म की हरारत ने उसके बदन की गर्मी भी बढ़ा दी & उसकी कमर पे रखे हाथ पीछे गये & उसकी पीठ को घेरते हुए उसे अपने जिस्म से और सतने लगे.

“डार्लिंग,मैं कुच्छ काम करना चाहती हू.”,रंभा उसके सीने को चूम रही थी & उसके हाथ पति के गले से उतार उसके कुर्ते मे घुस उसके पेट पे घूम रहे थे.

“कैसा काम?”,समीर के हाथ भी बीवी की निघट्य को उठा उसकी गंद को मसल रहे थे.रंभा ने जानबूझ के नाइटी के नीचे कुच्छ नही पहना था.समीर के हाथ जैसे ही उसकी मुलायम त्वचा से सटे उसका लंड पूरा तन गया & उसने जोश मे भर बीवी को खुद से और सटा लिया.

“ऊव्ववव..आराम से,मेरी जान..कही भागी थोड़े जा रही हू..आख़िर बीवी हू तुम्हारी!”,रंभा उसके पैरो पे खड़ी हो गयी & उचक के उसके होंठ चूम लिए.समीर ने फ़ौरन उसकी गंद को मसल्ते हुए उसके मुँह मे अपनी जीभ घुसा दी,”..उउम्म्म्म..घर मे बैठे-2 ऊब जाती हू..उउफफफ्फ़..इसीलिए सोचा कि कुच्छ काम ही कर लू..”,समीर के हाथ उसकी गंद से उपर उसकी नंगी पीठ पे चल रहे थे & रंभा भी मस्त हो गयी थी.रंभा ने हाथ नीचे ले जाके पति के पाजामे की डोर खींच दी & उसके लंड को पकड़ लिया.सच बात तो ये थी कि विजयंत मेहरा के बाद उसे कोई भी लंड उतना कमाल का नही लगा था & फिर समीर का लंड तो बाप के लंड के मुक़ाबले काफ़ी छ्होटा था मगर फिर भी था तो 1 लंड ही वो भी उस पति का जिसे वो फिर से जीतने की कोशिश कर रही थी,”..आपकी कंपनी मे कोई नौकरी मिलेगी,सर?”,रंभा नीचे बैठ गयी & बड़ी मासूम निगाहो से पति को देखा & फिर लंड के सूपदे को अपने गुलाबी होंठो से पकड़ लिया.

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

क्रमशः.......
-  - 
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Bollywood Sex बॉलीवुड में घरेलू चुदाई फैंटेसी 11 1,890 9 hours ago
Last Post:
Star Maa Sex Kahani माँ का मायका 32 4,770 9 hours ago
Last Post:
Star FreeSexkahani नसीब मेरा दुश्मन 55 16,575 06-13-2020, 01:10 PM
Last Post:
Star non veg kahani कभी गुस्सा तो कभी प्यार 113 45,678 06-11-2020, 05:08 PM
Last Post:
Star bahan sex kahani कमसिन बहन 41 52,838 06-09-2020, 01:37 PM
Last Post:
Thumbs Up Kamukta Story कांटों का उपहार 20 13,418 06-09-2020, 01:29 PM
Last Post:
  Hindi Sex Kahani ये कैसी दूरियाँ( एक प्रेमकहानी ) 55 20,930 06-08-2020, 11:06 PM
Last Post:
  Sex Hindi Story स्पर्श ( प्रीत की रीत ) 38 18,446 06-08-2020, 11:37 AM
Last Post:
Thumbs Up Desi Sex Kahani रंगीला लाला और ठरकी सेवक 180 497,419 06-07-2020, 11:36 PM
Last Post:
Thumbs Up xxx indian stories आखिरी शिकार 47 85,715 06-05-2020, 09:51 AM
Last Post:



Users browsing this thread: 1 Guest(s)
This forum uses MyBB addons.


bhabhi ko rat me naghi kar ke khidki ke pass choda xxx videofull HDसुधा की चुदाई अभिषेक ने कीdiya mirza xxx gand photosaheli ahh uii yaar nangiपडोशन भाभीदुध देखाईBur bhosda m aantrसबसे ज्यादा बार सेक्स कराने वाली महिला की योनि पर क्या प्रभाव पङा था?17 varska hot photosbpxxx.... Comsex karte samay ladki kis traha ka paan chodti hairandi bnake peshab or land ka pani pilayaNidhi bhanushali ke xxxxxxxx bur ke photoKatrina porntvsexशिकशी का काहानीDesi stories savitri ki jhanto se bhari burwww zopleli vaini xxx .comnasamajh nand antarvasnax** nangi photo video Amisha Patel x** nangi photo video nangi photosex shedi bhabhi ki chikh nikal jaye hindiअनुपमा परमेश्वरम नंगि फोटो नंगि फोटोXvideos2 Ankita Lokhande Xnxxआदमीं के चूतर xvideos.com/chhunni piotara.sutaria.ki.xx.photos.babaप्रियांका बापट hot sexy videos/Forum-hindi-sex-stories?page=62Karina kapur bollywood seximejNidhhi Agerwal xxx photoXxxhindiarmpitपुनम हीरोनी कीXxxMaa ne malis karke land ke sapuda khol chudai kahani sex stories of sonarica bhadoriysमेरी सुहाग रात भर मेरा पति नामर्द निकला ससुर से च**** की कहानी/online.php?sortby=location&page=122ठरकी दामाद sex storyआनटी कि सेकसी रोमटिक सटोरीtara setra sex babaveedaesee sex xxxगावाकडे जवण्याची गोष्टwww xxnx 12callac ki lo adke ka bfअसल चाळे चाचीRestahindisexstoryindian xxxrakitaLadki muth kaise marale ti hai"बाजी की कमीज"www sexbaba net Thread mastram sex kahani E0 A4 AE E0 A4 B8 E0 A5 8D E0 A4 A4 E0 A5 80 E0 A4 8F E0 AKahlidaki ki sexy-kahani hindighagsexये रिशता कया कहलाता है मे बरशा Nangi Sexbabanude photos of vidhya voxxxnxiesaBete Te bund marwayibur ki sil jodhne ke liye kya kareBhu tanu sex bood pothokanika kapoor fake sexhear pussi photo sex babaMabeteki kapda nikalkar choda chodi muviActsni.chut.chutad.braSoch alia xxxvideoSaath Nibhaana Saathiya actress xxx image sexbaba rista me chudahiअपनी धार्मिक माँ को इतना उतेजित देख लॉन्ग सेक्स स्टोरीजsummer of 69 savita bhabhiMeri maa or meri chut kee bhukh shant kee naukaro n sex storiesbaap ne maa chudbai pilan seSardarni incest photo with kahaniahot saxe zee tv saerial kabul hai image pron hdshalini pandey is a achieved heriones the sex baba saba and naked nude picsKafir.ka.mota.land.muslim.pakiza.bur.choda/Thread-new-desi-indian-selfie-hot-nude-college-girls-aunties-sexy-boobs-pics-n-vids?pid=93007की-पॅड मोबाइल पर सेक्स व्हिडिओhaseen jahan,nude nangi sex baba savita bhubike chudi XXXSABIYA-COMChuat ko bhosadi banvana ki gandai stoaryx.bidio.phulsaejशमले चुड़ै पिक्सxxxcomdeteeगोरी मलिक sex baba imagessonaksi xxx image sex babawww.nangiurmila.comAaahhh oohhh jiju fuck meबुआ को वोदका पीला कर बुआ की गांड़ मारी सेक्स स्टोरीUncle ne masum Mummy Ko barhmi se choda sex storyNuni hilake muth mar deti thiपापा ने बाजारसे बेटिको ब्रा और पँटी खरीदे हिन्दी सेक्स कहाणीAanaya panday Xxximge www.bahu aur bhateje ka antarvasana padosi se sex baba.comkhet main orat ki salwar utari sex story.comxxnxbhabhi svita tvहेबह पटेल की चोट छोड़ाए की नागि फोटोxxx khun nikala asa video bf khatarnak jangal ka pakrakar chodaiSexbabanet tadpti jawaniमनु के परिवार मे चूदाईxnwx sexbaba .Net Ileanaserial actress kewww.chodai nudes fake on sex baba net soti bhen sex mms new2019 VideoSauth uncle anty fake nude sexbaba